कुशीनगर: तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र के एक गांव में 11 वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म के बाद उसे मौत के घाट उतारने वाले उसी के गांव के आरोपित माइगर मद्देशिया को पुलिस ने घटना के तीसरे दिन सोमवार को सुबह धर दबोचा। उसके पास से हत्या में प्रयुक्त चाकू भी मिला।

पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार मिश्र ने आरोपित पर पर 15 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। दुष्कर्म और हत्या के बाद उसने शव को झाड़ी से ढंक दिया और घर छोड़कर अपने रिश्तेदार के गांव बड़हरा थाना विशुनपुरा में छिपा था। उसे शरण देने वाले रिश्तेदार को भी गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने दोनों को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

एसपी ने कार्यालय में पत्रकारों को यह जानकारी दी। उन्होंने हत्यारे के बारे में बताया कि उसकी दो शादियां हुईं पर दोनों टूट गई थीं। दो साल पहले दूसरी पत्नी संजू इसे छोड़कर चली गई। संजू से उसे एक चार साल का बेटा भोला है, जो पिता के पास रहता है। एसपी ने बताया कि घटना के दिन शाम छह बजे वह गांव के बाहर अकेले था। उसकी नजर खेत से लौट रही पड़ोस की बच्ची पर पड़ी। उसने उसे जबरदस्ती पकड़ा और कुछ दूरी पर ले जाकर दुष्कर्म किया। उसे आशंका हुई कि घर पहुंचने के बाद वह घटना बता देगी। राज छिपाने के लिए उसने चाकू से उसका गला रेत मौत के घाट उतार दिया। घटना को अंजाम देने के बाद वह अपने घर गया और हैंडपंप पर हाथ-पैर में लगे खून धोया। दादी के पास बैठे भोला को गोद लिया और वहां से फरार हो गया। पत्रकार वार्ता में एएसपी एपी सिंह भी मौजूद रहे। गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में एसएचओ जितेंद्र सिंह, दारोगा रामलक्ष्मण सिंह आदि शामिल रहे। भोला को गोद में लिए हुए था आरोपित

माइगर के जेल जाने के बाद भोला को पुलिस ने उसकी दादी शांति को सुपुर्द किया। रिश्तेदार रामचंद्र के घर से पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया तो वह बेटे भोला को गोद में लिए हुए था। उसने कहा कि उसके बेटे को उसकी बुआ को दे दिया जाए, लेकिन पुलिस ने बच्चे की सुरक्षा को देखते हुए उसे उसकी दादी को सौंप दिया। माइगर छह भाई हैं, सभी अलग रहते हैं।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप