कुशीनगर : थाना क्षेत्र के गांव बसडीला महंथ निवासी अधेड़ की शुक्रवार रात इलाज के दौरान गोरखपुर स्थित एक निजी अस्पताल में मौत हो गई। सुबह पुलिस ने शव को कब्जे में ले आवश्यक कार्रवाई के लिए भेज दिया। मृतक के परिजनों ने हृदयाघात के चलते मौत होने तथा इसके लिए गांव के ही कुछ युवकों को जिम्मेदार ठहराते हुए तहरीर दी। तहरीर के आधार पर पुलिस आरोपितों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर जांच कर रही है। बताया जा रहा कि उक्त गांव निवासी विजय मद्धेशिया 24 वर्ष बाइक से जाते समय बीते रविवार को गांव में बने ब्रेकर पर गिरकर घायल हो गया था। विजय के परिजन प्रधान से इलाज में आए खर्च की मांग कर रहे थे। प्रधान के इंकार के बाद विवाद की स्थिति कायम हो गई। इसी बात को लेकर 26 नवंबर को गांव में पंचायत बैठी। जिसमें प्रधान सुदामा कुशवाहा तथा घायल युवक के परिजन व समर्थक मौजूद थे। विजय के परिजनों ने पंचायत में प्रधान से इलाज में आए खर्च का भुगतान किए जाने की मांग की। पंचायत में मौजूद गांव के रामचंद्र सिंह 57 वर्ष ने परिजनों के इस मांग को गलत बताते हुए कहा कि प्रधान सहयोग कर सकते हैं, न कि इलाज का खर्चा उठा सकते। इतना सुनते ही विजय के परिजन व कुछ समर्थकों ने उन्हें अपशब्द कहना शुरू कर दिया। बताया जा रहा कि अचानक इसी बीच रामचंद्र की तबियत बिगड़ गई। परिजन उन्हें आनन-फानन कसया स्थित एक निजी अस्पताल ले गए, जहां प्राथमिक इलाज बाद डाक्टर ने मेडिकल कालेज रेफर कर दिया। उन्हें गोरखपुर स्थित एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां बीती रात उनकी मौत हो गई। रामचंद्र के परिजन हार्ट अटैक के चलते मौत होने तथा इसके लिए अपशब्द कहने वाले विजय मद्धेशिया समेत चार को जिम्मेदार ठहराते हुए तहरीर दी। पुलिस ने शव को कब्जे में ले आवश्यक कार्रवाई के लिए भेज दिया। प्रभारी निरीक्षक हरेंद्र मिश्र ने कहा कि तहरीर के आधार पर आरोपितों के विरूद्ध धारा 352, 504 आइपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस