कुशीनगर: अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य गोरखपुर मंडल डा.पुष्कर आनन्द ने शुक्रवार को जिला संयुक्त अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। लगभग तीन घंटा अस्पताल में रहे एडी हेल्थ ने इमरजेंसी वार्ड, ओपीडी, जनरल वार्ड, आइसीयू, एक्सरे, अल्ट्रा साउंड कक्ष, जच्चा-बच्चा केंद्र, पोषण पुनर्वास केंद्र के अलावा इंसेफ्लाइटिस वार्ड का निरीक्षण किया। डिलीवरी रूम में रजिस्टरों की जांच करते हुए कहा कि कुल 12 रजिस्टर होने चाहिए। यह ठीक नहीं है। इसके संबंधित स्वास्थ्य कर्मियों को फटकार लगाते हुए कहा कि बच्चा जब जन्म लेता है, उसी समय माता-पिता का आधार व मोबाइल नंबर अवश्य अंकित करें। इस दौरान साफ-सफाई पर विशेष जोर देते हुए कहा कि चिकित्सक व कर्मचारी ड्यूटी में लापरवाही न बरतें। कोताही मिलने पर कोई भी बख्शा नहीं जाएगा। निरीक्षण के दौरान मेडिसीन स्टोर में 30 जून 2018 को एक्सपायर होने वाली खांसी की दो डिब्बा टेबलेट साथ लेते गए। ज्वांइट डायरेक्टर हेल्थ डा.गणेश यादव ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं के प्रति लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। इसके बाद सीएमएस कार्यालय में चिकित्सकों के साथ बैठक में नसीहत दी कि अपनी आदत में सुधार लाएं और नैतिक दायित्वों का निर्वहन करें। सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ मरीजों तक पहुंचे, इसका सार्थक प्रयास होना चाहिए। इस अवसर पर सीएमएस डा.बजरंगी पांडेय, डा.राजेश कुमार, डा.रमाशंकर, डा.सतीश ¨सह, डा.बीएन पांडेय, डा.सतीश रंजन उपस्थित रहे। तत्पश्चात सीएमओ दफ्तर का निरीक्षण करते हुए प्रभारी चिकित्साधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि जेइएस व एइएस को लेकर तत्परता बरती जाए। मरीजों की स्थिति गंभीर होने पर ही रेफर करें। हाटा व कप्तानगंज में बच्चों के लिए बन रहे इंसेफ्लाइटिस वार्डों की प्रगति की समीक्षा करते हुए कहा कि 30 जून तक हर हाल में निर्माण कार्य पूरा करा लिया जाए, ताकि जुलाई से बच्चों का इलाज प्रारंभ कराया जा सके। जनपद में अब तक स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी योजनाओं से अवगत कराते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी डा.हरिचरन ¨सह ने कहा कि जेईएस-एइएस से बचाव के सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। इसके लिए चिकित्सकों को विशेष निर्देश दिया गया हे। इस मौके पर सभी सीएचसी व पीएचसी के प्रभारी चिकित्साधिकारी, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी समेत अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

----

50 बेड का इंसेफ्लाइटिस वार्ड तैयार

-एडी हेल्थ डा.पुष्कर आनन्द पत्रकारों से बताया कि जिला अस्पताल में सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। इंसेफ्लाइटिस के लिए 50 बेड का भवन तैयार है, जिसे शीघ्र चालू कराया जाएगा। जहां-जहां कमी मिली है, उसे ठीक कराने का निर्देश दे दिया गया है। अगली बार निरीक्षण में कमियां दिखी तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस