कुशीनगरद: कोरोना संक्रमण से प्रभावित ऐसे बच्चों जिनके माता पिता में से कोई एक या फिर दोनों की मृत्यु हो गई है अथवा संकटग्रस्त बच्चों को आर्थिक सहयोग के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ व राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल ने मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण कलेक्ट्रेट सभागार में किया गया। इस मौके पर 25 प्रभावित बच्चों को आर्थिक सहयोग की धनराशि का स्वीकृति पत्र दिया गया।

आर्थिक सहायता के लिए बच्चों को स्वीकृति पत्र उप्र बीज विकास निगम के उपाध्यक्ष राज्यमंत्री राजेश्वर सिंह, राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के उपाध्यक्ष लाल बाबू वाल्मीकि, कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या के प्रतिनिधि श्रीराम, डीएम एस राजलिगम द्वारा दिया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री की छोटे बच्चों के प्रति संवेदनशीलता की चर्चा की गई तो मुसहर समाज के विकास के प्रति मुख्यमंत्री के प्रयास, जलजनित बीमारी इंसेफेलाइटिस व मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की महत्ता पर प्रकाश डाला गया। डीएम ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर में कुछ लोगों को अपने निकटतम स्वजन को खोना पड़ा है। सरकार उनके प्रति संवेदनशील है। इस योजना से कोविड से अनाथ बच्चों को 4000 की राशि प्रतिमाह देखभाल के लिए दी जाएगी। इससे उनके दुखों की प्रतिपूर्ति तो नहीं की जा सकती, लेकिन इस धनराशि से कुछ मदद हो जाएगी। जिला प्रोबेशन अधिकारी विजय पांडेय, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष दीपाली सिन्हा, कल्पना, अंजलि पांडेय समेत 25 बच्चे मौजूद रहे। कोविड प्रोटोकाल के कारण न बुलाए गए बाकी 20 बच्चों के खाते में धनराशि भेजी गई।

डीएम ने रिपोर्ट शासन को भेजने की दी संस्तुति

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में क्षेत्र पंचायत वार्ड के परिसीमन में गड़बड़ी किए जाने के आरोप के दोषी पाए गए तत्कालीन एडीओ पंचायत पडरौना के खिलाफ कार्रवाई के लिए जांच रिपोर्ट को डीएम एस राजलिगम ने शासन को भेजने की संस्तुति दे दी है।

शिकायतकर्ता पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य रहसु-खुदरा लाल बीबी देवी के प्रतिनिधि अतुल कुमार भट्ट ने डीएम से एडीओ पंचायत द्वारा किए गए क्षेत्र पंचायत सदस्य वार्ड के परिसीमन में गड़बड़ी की शिकायत दर्ज कराई थी। डीएम के निर्देश पर सीडीओ अनुज मलिक ने डीडीओ शेषनाथ चौहान को जांच सौंपी थी। जांच में शिकायत की पुष्टि होने पर सीडीओ ने आठ जुलाई को डीपीआरओ को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। दोबारा मामला प्रस्तुत होने पर डीएम ने गुरुवार को एडीओ पंचायत मैनेजर सिंह के खिलाफ जांच रिपोर्ट को शासन को भेजने की संस्तुति करते सीडीओ को निर्देश दिया है।