जासं, कौशांबी : फतेहपुर जनपद के जरौली पंप कैनाल से निकलने वाली करारी माइनर में अभी पानी नहीं पहुंचा है। इसकी वजह से खेतों का पलेवा नहीं कर पा रहे हैं, वहीं बोई गई फसलें भी सिंचाई के अभाव में सूखने लगी हैं।

जरौली पंप कैनाल से निकलने वाली करारी नहर से हजारों बीघे खेतों की सिचाई किसान करते हैं, लेकिन करारी नहर की आधा दर्जन माइनरों में अब तक पानी नहीं पहुंचा। इसमें उदिहिन, अनेठा, समदा, कैमा, गंभीरा व देवरखपुर, तुलसीपुर आदि माइनरों में पानी नहीं छोड़े जाने से किसान परेशान हैं। उदहिन के अवधेश कुमार, महेश प्रसाद, गंभीरा के राम प्रसाद, देवकरन, देवखरपुर रामसुमेर आदि किसानों का कहना है कि अगस्त 2019 में नहर में पानी आया था। उसके बाद नहर में पानी नहीं आया। इसकी शिकायत किसानों ने तहसील प्रशासन व सिचाई विभाग के अधिकारियों से शिकायत की थी। इसके बाद नहरों में पानी नहीं छोड़ा गया।

---------

नहीं कराई गई नहरों की सिल्ट सफाई

जरौली पंप कैनाल से निकलने वाली करारी नहर जनपद में 65 किलोमीटर की सीमा में है। इस नहर कि सिल्ट सफाई का काम अब तक शुरू नहीं किया गया। मुख्य नहर के अलावा माइनरों में सिल्ट आ गई है। किसानों का कहना है नहर में पानी का प्रवाह भी किया गया तो सिल्ट की वजह से टेल तक पानी नहीं पहुंचेगा।

-------

भाकियू करेगा आंदोलन

किसान यूनियन के मंडल अध्यक्ष नूरुल इस्लाम का कहना है कि जरौली पंप कैनाल से निकलने वाली नहर में पानी का प्रवाह नहीं किया जा रहा है। इस संबंध में सिचाई विभाग के अधिकारियों से शिकायत की गई है। यदि मुख्य नहर समेत सभी माइनरों में पानी न पहुंचाया गया तो संगठन धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस