कौशांबी, जेएनएन। यूपी के कौशांबी में मंगलवार की शाम 11वीं के छात्र ने फंदे पर झूल कर मौत को गले लगा लिया। उसने एक व्‍यक्ति की प्रताड़ना से आजिज आकर आत्‍मघाती कदम उठाया। इसका खुलासा उसकी जेब में मिले सुसाइड नोट से हुआ। पुलिस उस व्‍यक्ति को तलाश रही है, जिसका नाम छात्र ने सुसाइड नोट में लिखा है। घटना चरवा कस्‍बे की है।

चरवा की घटना : चरवा उत्तर थोक मोहल्ला निवासी शारदा प्रसाद पांडेय खेती करते हैं। उनका 17 वर्षीय बेटा सिद्धार्थ क्षेत्र के महगांव इंटर कालेज में 11वीं का छात्र था। मंगलवार की शाम वह कमरे के अंदर फंदे पर झूल गया। इससे उसकी मौत हो गई। फंदे पर सिद्धार्थ का लटकता शव देख कर स्वजनों ने मोहल्ले के लोगों की मदद से शव को फंदे से नीचे उतार कर आनन-फानन में पास के एक प्राइवेट अस्पताल लेकर पहुंचे जहां पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

चरवा इंस्‍पेक्‍टर बोले- जांच के बाद आरोपित की गिरफ्तारी होगी : इसी बीच परिवार के लोगों को सिद्धार्थ की जेब में रखा सुसाइड नोट मिला। इसमें किसी विजय नामक युवक की प्रताड़ना से आजिज आकर छात्र ने खुदकशी की बात लिखी है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सुसाइड नोट के आधार पर सिद्धार्थ की मौत का कारण और विजय नामक व्यक्ति का पता लगा रही है। इस संबंध में चरवा इंस्पेक्टर आलोक कुमार का कहना है कि जांच की जा रही है। जल्द ही घटना का खुलासा और आरोपित को सलाखों के पीछे भेजा जाएगा।

क्‍या लिखा है सुसाइड नोट में : मम्मी हमको माफ करना, बाबू मम्मी हम सब बर्दाश्‍त कर सकते हैं लेकिन अपनी बेइज्जती नहीं। हमसे विजय से बात है। जो हम आपसे भी नहीं बता सके हैं। इसीलिए हम सबको छोड़ कर दूर जा रहे हैं। बचपन से सपना रहा है कि आइएएस बनें लेकिन अब सपना भूल रहा हूं। हमारी मौत का कारण विजय है। अपनी बेइज्जती नहीं सह सकता। जो गलती होगी क्षमा करना। आपका बेटा सिद्धार्थ आज जा रहा है। सबसे दूर मम्मी, तुम्हें हमारी कसम रोना नहीं। हो सके तो विजय से हमको न्याय दिलाना, सुमन क्षमा, बुद्धू क्षमा, विनीता क्षमा, रंजना क्षमा, विघा क्षमा, बाबा क्षमा, विजय का मोबाइल नंबर भी सुसाइड नोट में लिखा है।

Edited By: Brijesh Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट