जासं, कौशांबी : सरायअकिल थाना क्षेत्र के गौरा गांव में कल्पना हत्याकांड में आरोपित रहे युवक को पुलिस अधीक्षक ने उस समय गिरफ्तार करा लिया, जब वह ग्रामीणों के साथ अपने आपको बेगुनाह बताने के लिए उनके पास फरियाद लेकर पहुंचा। पकड़े गए आरोपित को सरायअकिल पुलिस के सुपुर्द किया गया है।

गौरा निवासी रामचंद्र पटेल की बेटी कल्पना की बीते नौ अगस्त को हत्या कर दी गई थी। उसका शव रामचंद्र के ही बाग के नलकूप के समीप पड़ा मिला था। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए गांव के ही देवराज की भूमिका संदिग्ध पाई। इस पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा। जबकि रामराज का का भतीजा गोरेलाल फरार चल रहा था। पुलिस उसकी तलाश में संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही थी। इस बीच सोमवार को गोरेलाल गांव के कुछ लोगों के साथ एसपी से गुहार लगाने पहुंच गया। वह पुलिस अधीक्षक को यह बताना चाह रहा था कि उसका मृतका कल्पना के परिवार वालों से विवाद चला आ रहा था। इसे लेकर साजिश के तहत उसके पिता और उससे दुश्मनी निभाने के लिए रामचंद्र ने खुद ही बेटी की हत्या की साजिश की है। एसपी ने शिकायती पत्र लेते हुए गोरेलाल से पूछताछ शुरू किया वह अपने आपको बेगुनाह बता रहा था लेकिन जब एसपी ने उसके मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल मंगवाकर बताना शुरू किया तो उसके होश उड़ गए। इस बीच पुलिस अधीक्षक ने सिपाहियों को बुलाकर उसे हिरासत में लिया और सरायअकिल पुलिस के सुपुर्द किया।

Posted By: Jagran