जासं, कौशांबी : खाद्य सुरक्षा विभाग के फूंड इंस्पेक्टर ने गुरुवार को मनौरी बाजार स्थित एक नमकीन फैक्ट्री में छापामारी की। फूड इंस्पेक्टर को देख फैक्ट्री का मालिक मौके से फरार हो गया। कुछ देर तक इंतजार के बाद भी कोई नहीं आया तो फूड इंस्पेक्टर ने फैक्ट्री के ताले को सील कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि फैक्ट्री मालिक को चेतावनी दी गई है। अगर वह वैध लाइसेंस नहीं दिखाता तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मनौरी बाजार में कई नमकीन फैक्ट्री चलती है। पिछले दिनों फूड इंस्पेक्टरों का क्षेत्र बदला गया था। काफी दिनों से मंझनपुर में तैनात फूड इंस्पेक्टर सेफाली रस्तोगी को चायल क्षेत्र दिया गया है। इसलिए उन्होंने चायल क्षेत्र में चे¨कग शुरू कर दी है। गुरुवार को सेफाली रस्तोगी ने मनौरी में छापेमारी की। वह मनौरी में राकेश कुमार की नमकीन फैक्ट्री पहुंची। वह जांच शुरू करती कि इससे पहले वह गेट का ताला बंद करके फरार हो गया। फूड इंस्पेक्टर ने बताया कि वहां के हालात को देखकर लगता है कि घटिस तेल व अन्य सामग्री का प्रयोग हो रहा था। इसलिए फैक्ट्री मालिक भी देखते ही फरार हो गया। आसपास के लोगों से उन्होंने पूछताछ की और करीब दो घंटे तक उसका इंजतार करती रही। उसके न आने पर फैक्ट्री के ताले में सील लगा दिया। लेकिन सील लगाने की जानकारी विभागीय अधिकारियों को नहीं दी। उन्होंने बताया कि अभी उसे चेतावनी दी गई है। अगर कल वह फैक्ट्री के लाइसेंस के कागजात नहीं दिखता और जांच करने में अड़चन पैदा करता है सख्त कार्रवाई की जाएगी।

------

संदेह के घेरे में है कार्रवाई

फूड इंस्पेक्टरों पर दुकानदारों से वसूली सहित अन्य तरह के आरोप लगते रहे हैं। नमकीन फैक्ट्री को सील करते हुए फोटो वायरल होने के बाद भी केवल चेतावनी देने बात से उनकी कार्य शैली पर सवाल खड़े होते हैं। स्थानीय लोगों की माने तो इंस्पेक्टर सहित अन्य कर्मचारी वहां करीब दो घंटे तक रहे। इस दौरान कई प्रभावशाली लोगों ने उनसे संपर्क किया। अधिकारियों को छापामारी की जानकारी न देना और केवल चेतावनी देना कहीं-कहीं न मामला संदिग्ध प्रतीत होता है।

कहते है अधिकारी

- फूड इंस्पेक्टर ने नमकीन फैक्ट्री को सील किए जाने जैसी कोई जानकारी नहीं दी है। उन्होंने बताया है कि वहां पर छापामारी की गई है। इसके बाद मालिक को व्यवस्था सही करने की चेतावनी दी गई है।

- आरएल यादव, डीओ, कौशांबी

Posted By: Jagran