प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत सभी आवेदकों को अब किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) दिया जाएगा। इसके लिए दो लाख 22 हजार किसानों को चयनित किया जाएगा। कलेक्ट्रेट के सभागार में प्रेस कांफ्रेंस कर जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने बताया कि जिन किसानों के पास पहले से केसीसी है, उन्हें भी आवश्यकता और नियमानुसार ऋण सीमा वृद्धि की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

डीएम के अनुसार, शासन की ओर से ऐसे किसान, जिनके पास किसान क्रेडिट कार्ड है और वह निष्क्रिय हैं, वे लोग अपने कार्ड को नियमानुसार सक्रिय कराएं और ऋण सीमा का निर्धारण करा सकते हैं। जो किसान केसीसी का लाभ नहीं ले सके हैं, वह एक पेज के निर्धारित प्रोफार्मा पर संबंधित सूचना जैसे भू-अभिलेख, फसल विवरण, किसी अन्य बैंक शाखा से केसीसी की सुविधा प्राप्त नहीं की गई है, अंकित करना होगा। उस प्रोफार्मा के साथ नजदीकी बैंक शाखा से संपर्क करें और शाखा प्रबंधक ऐसे किसानों को केसीसी की सुविधा उपलब्ध कराएंगे। डीएम ने बताया कि सभी बैंक के शाखा प्रबंधक और कर्मचारी विशेष शिविरों का आयोजन करेंगे। आवेदन करने के बाद 14 दिन के भीतर केसीसी की सीमा को बैंकर्स स्वीकार करेंगे। डीएम ने बताया कि आठ से 22 फरवरी तक 15 दिवसीय अभियान चलाया जा रहा है। पशुपालन व मत्स्य पालन या दोनों कार्य से से जुड़े किसानों की ऋण सीमा नियमानुसार बढ़ाई जा सकती है। डीएम ने बताया कि तीन लाख रुपये तक के केसीसी ऋणों के प्रसंस्करण यानि प्रोसेसिग, प्रलेखन, निरीक्षण और खाताबही के साथ-साथ अन्य सेवा शुल्क भी माफ कर दिए गए हैं। इतना ही नहीं, कृषि, पशुपालन, मत्स्य पालन, पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग से संबंधित विभाग के अधिकारी पीएम किसान लाभार्थियों के मध्य जागरूकता का प्रसार-प्रचार करेंगे। ग्राम प्रधान भी बैठक कर इस संबंध में जानकारी दें। इस मौके पर एएलडीएम अभिषेक कुमार और उपनिदेशक कृषि उदयभान भी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस