कौशांबी। डिप्लोमा इन एलीमेट्री एजूकेशन (डीएलएड) चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा के दौरान मंगलवार को तीन विषयों के पर्चे केंद्र में वितरित किए जाने से पहले ही वाट्सएप पर वायरल हो गए। पेपर खत्म होने के बाद मिलान पर वही सवाल हूबहू पर्चे में मिले जो वाट्सएप पर वायरल पर्चे में थे। ऐसे में शुचिता पर सवाल खड़ा हो गया है। जिले के अधिकारियों का इतना भर कहना है कि जांच की जा रही है।

कौशांबी में डायट समेत 24 डीएलएड कालेज हैं। यहां चतुर्थ सेमेस्टर में 1111 प्रशिक्षु पंजीकृत हैं। सोमवार से शुरू परीक्षाएं बुधवार तक चलनी हैं। पहले दिन से ही चर्चा थी प्रश्नपत्र लीक हो रहे हैं। मंगलवार की सुबह 10 बजे विज्ञान, दोपहर 12 बजे गणित तथा उसके बाद दो बजे से सामाजिक अध्ययन विषय की परीक्षा थी। शातिरों ने करीब आधे घंटे पहले ही वाट्सएप पर पहले ही कथित पर्चे वायरल कर दिए। परीक्षा संपन्न होने के बाद मिलान पर पाया गया कि वही सवाल केंद्र में वितरित पर्चे में हैं जो कुछ देर पहले वाट्सएप से प्रसारित किए गए कथित प्रश्नपत्र में थे। डायट प्राचार्य स्वराज भूषण त्रिपाठी ने बताया कि परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले तलाशी के दौरान एक छात्र से ऐसी चिट मिली है जो पूछे गए सवालों के जवाब की है। चिट के हर प्रश्न उसी क्रम में हैं। मामले की जांच कराई जा रही है। पूर्व की परीक्षाओं पर संदेह

अधिकारी सीधे तौर पर पेपर आउट होने की बात स्वीकारने से तो इन्कार कर रहे हैं लेकिन टिप्पणी से भी बच रहे हैं। किसी परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक होने का यह पहला प्रकरण नहीं है। वर्ष 2018 में जब पाठ्यक्रम का नाम बीटीसी था, तब उसका पर्चा लीक हो गया था। तत्कालीन जिला विद्यालय निरीक्षक तथा प्रभारी डायट प्राचार्य सत्येंद्र कुमार सिंह ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। साल भर जांच चली। फिर पुलिस ने प्रिटिंग प्रेस से ही पेपर लीक होने की बात कह कर मामला खत्म कर दिया। जिले में नेशनल इंटर कालेज भरवारी, करारी इंटर कालेज करारी,कस्तूरबा गांधी इंटर कालेज भरवारी तथा जवाहरलाल इंटर कालेज सरसवां में डीएलएड परीक्षा के लिए केंद्र बनाया गया है।

Edited By: Jagran