जासं, कौशांबी : जिला सलाहकार समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में शुक्रवार को संपन्न हुई। इसमें जिलाधिकारी ने शासन की ओर से स्वरोजगार से जोड़ने के लिए चलाई जा रही योजनाओं की समीक्षा किया। साथ ही निर्देश दिया कि बैंकों में ऋण के लिए जो पत्रावलियां आएं उसका निस्तारण समय पर करें, जिससे लोगों को रोजगार मिल सके।

कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने प्रधानमंत्री रोजगार योजना, मुख्यमंत्री रोजगार योजना, ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान, वित्तीय साक्षरता शिविर, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, स्वयं सहायता समूह का गठन, ऋण जमानुपात, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एवं अटल पेंशन योजना, स्वयं सहायता समूह योजना सहित अन्य सरकारी योजनाओं की समीक्षा की। इसमें स्पष्ट हुआ कि बैंकों में भेजी गई 150 से अधिक पत्रावलियां लंबित हैं। इसको लेकर डीएम ने शाखा प्रबंधकों पर नाराजगी जाहिर किया। साथ ही निर्देश दिया कि लंबित पत्रावलियों को समय से निस्तारित करने के निर्देश बैंकर्स करें। उन्होंने समस्त बैंकों के जिला समन्वयकों को निर्देशित किया कि

कि आत्मनिर्भर भारत योजना व गरीब कल्याण योजना के तहत चयनित किए गए लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए अभियान चलाए। बैठक में जिला विकास प्रबंधक नाबार्ड अनिल कुमार शर्मा, अग्रणी जिला प्रबंध संजीव कुमार श्रीवास्तव, पशु चिकित्साधिकारी बीपी पाठक, उप निदेशक कृषि डा. उदयभान समेत बैंकर्स के जिला समन्वयकगण उपस्थित रहे। जिलाधिकारी ने वार्षिक ऋण योजना (2021-22) नामक पुस्तक का विमोचन भी किया। आक्सीजन प्लांट लगाने में लापरवाही पर एसडीएम नाराज

संसू, नारा : सिराथू एसडीएम प्रखर उत्तम ने शुक्रवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कड़ा का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने ओपीडी चिकित्सा व कोविड वैक्सीनेशन व्यवस्था का जायजा लिया। साथ ही गैस प्लांट का निरीक्षण करते हुए एसडीएम ने कार्य में तेजी लाए जाने के निर्देश दिए।

एसडीएम ने एक्सरे व जांच केंद्र में पहुंचकर व्यवस्था का निरीक्षण किया। साथ ही आए हुए मरीजों व तीमारदारों से स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने आक्सीजन प्लांट को देखकर काम में तेजी लाए जाने के लिए कहा। एसडीएम ने महिला वार्ड में जाकर प्रसव के लिए किए गए इंतजामों का जायजा लिया। प्रसव के बाद मिलने वाली प्रोत्साहन राशि के बारे में भी जानकारी लिया। ओपीडी रजिस्टर को देखकर आने वाले मरीजों के पंजीयन के दौरान मोबाइल नंबर लिखने के लिए कहा। इस मौके पर अधीक्षक डा. नीरज सिंह समेत सभी कर्मचारी मौजूद रहे। एसडीएम के औचक निरीक्षण से स्वास्थ्य कर्मियों में अफरा-तफरी का माहौल रहा।

Edited By: Jagran