कौशांबी । बेसिक शिक्षा विभाग के प्राइमरी और जूनियर हाई स्कूलों में शिक्षकों की लापरवाही बदस्तूर जारी है। अफसरों की सख्ती के बावजूद सुधार नहीं हो रहा है। शिक्षकों की लापरवाही शिकायतें मिलीं तो बीएसए ने कई स्कूलों की जांच की। जांच में अधिकतर स्कूलों में खामियां उजागर हुई। ऐसे में बीएसए ने दर्जनभर शिक्षकों के खिलाफ वेतन रोकने और काटने की कार्रवाई की है। उन्होंने कहा की आगे भी ऐसी लापरवाही जारी रही तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बीएसए एमआर स्वामी ने बताया कि बुधवार को नगियामई के लोगों ने फोन पर बताया कि सुबह समय से नहीं खुला। वहां का निरीक्षण किया तो पता चला कि शिक्षक अशोक कुमार स्कूल नहीं पहुंचे। विद्यालय की चाभी रसोइया के पास रहती है। उसने विद्यालय नहीं खोला। सहायक अध्यापक सारिका गौतम और मोहम्मद जफर विद्यालय मे उपस्थित नहीं रहे। सहायक शिक्षक वंदना ¨सह मातृत्व अवकाश पर हैं। विद्यालय में दो दिनों से एमडीएम नहीं बना। ऐसे में इन शिक्षकों का सितम्बर का वेतन रोकने के साथ ही एक वेतनवृद्वि रोक दी गई है। 14 सितंबर को उन्होंने प्राइमरी स्कल भैला प्रथम का निरीक्षण किया। शिक्षक अजय ¨सह, गेहवेंद्र प्रकाश, पीयूष प्रकाश, सीमा देवी, प्रशान्त ¨सह उपस्थित थे। संगीता मातृत्व अवकाश पर है। एमडीएम 11 सितंबर से नहीं बन रहा है। इस संबंध में प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण मांगा है। भैला द्वितीय में विनय कुमार वर्मा, गीता देवी उपस्थित रहे। शिक्षक पूनम मिश्रा अनुपस्थित थी इसीलिए उनका सितम्बर माह का मानदेय रोका गया है। पूर्व माध्यमिक विद्यालय भैला डिस्प्ले बोर्ड नहीं बना है। एमडीएम 11 और 12 सितंबर को नही बना। एमडीएम गुणवत्ता पूर्ण नहीं है। एमडीएम शेड बना है चाहारदीवारी नहीं है। इसलिए स्पष्टीकरण तबल किया गया है। पिपरीकुंडी प्राइमरी स्कूल में 85 के सापेक्ष मात्र 48 बच्चे उपस्थित पाए गए। आई कार्ड व डिस्प्ले बोर्ड नहीं बना है। हैंडपंप खराब है। प्रधानाध्यापक को निर्देशित किया जाता है कि तत्काल आई कार्ड व डिस्प्ले बोर्ड बनवाना सुनिश्चित करें। कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय नेवादा फुल टाइम टीचर गायत्री देवी अनुपस्थित थीं। फुल टाइम टीचर अनीता देवी दो सितंबर से लगातार बिना किसी अवकाश स्वीकृति के विद्यालय से गायब हैं। मुख्य रसोइया अनीता भी बिना किसी अवकाश स्वीकृति के विद्यालय से गायब थीं। टीचर व बच्चों का आवागमन प¨जका नहीं है। अनुपस्थित होने पर शिक्षकों का मानदेय रोक दिया गया।

शिक्षक ने बताया फ्रैक्चर, बच्चों ने कहा अभी गए

पूर्व माध्यमिक विद्यालय पिपरकुंडी में बच्चे विद्यालय परिसर मे इधर-उधर टहल रहे थे। किन्तु कोई भी अध्यापक उपस्थित नहीं था। विद्यालय मे शिक्षक रामशरण, रामबाबू और अशोक नारायण तिवारी कार्यरत है। अशोक नारायण तिवारी को बीएसए ने फोन किया तो उन्होंने बताया कि मेरा हाथ फैक्चर हो गया है। जिस कारण विद्यालय नहीं आ सका। वहीं बच्चों ने बताया कि अशोक नारायण तिवारी आए थे और चले गए। कभी भी विद्यालय समय से नहीं आते हैं। यदि आते हैं तो एक घंटे मे वापस चले जाते हैं। कभी भी विद्यालय में पढ़ाते नहीं है। विद्यालय का हैंडपंप खराब है। शैक्षिक गुणवत्ता शून्य है। विद्यालय का रख-रखाव, साफ-सफाई खराब है। जिससे यह प्रतीत होता है कि अशोक नारायण तिवारी अपने दायित्वों का निवर्हन सही ढंग से नहीं कर रहे हैं। बीएसए ने शिक्षक का सितम्बर का वेतन रोक दिया और तीन वेतनवृद्वि रोक दी।

Posted By: Jagran