कौशांबी : किसानों को फसल उगाने के लिए साहूकारों से कर्ज न लेना पड़े। इसके मद्देनजर सरकार किसानों को फसली ऋण उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत है। किसानों को केसीसी जारी कराने के लिए लक्ष्य भी निर्धारित किया गया है। इस वित्तीय वर्ष में 37882 क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए निर्देश जारी किया है। इसके बाद भी 25 फीसद किसानों को ही केसीसी जारी किया गया है। शाखा प्रबंधकों की उदासीनता से किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

किसानों की आय को दोगुना करने के लिए शासन स्तर से प्रयास किया जा रहा है। किसानों को फसल उगाने में कोई परेशानी न हो। इसके लिए इस वित्तीय वर्ष में जनपद के 37882 किसानों का क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए शासन से लक्ष्य निर्धारित किया गया था। इस संबंध में शासन ने जिला प्रशासन व कृषि विभाग को पूर्व में आवश्यक निर्देश भी जारी किया था, लेकिन शाखा प्रबंधकों की उदासीनता के चलते अब तक 9763 किसानों को क्रेडिट कार्ड जारी किया गया है, जबकि पूर्व में कलेक्ट्रेट में हुई बैंकर्स की बैठक में डीएम ने केसीसी जारी करने में लापरवाही को लेकर नाराजगी जताई थी। इसके बाद भी बैंक शाखा प्रबंधक ध्यान नहीं दे रहे हैं।

---

तीन सौ से अधिक आवेदन लंबित

इस संबंध में पूर्व में आयोजित की गई बैठक में जनपद की बैंक शाखाओं में केसीसी की 300 से अधिक पत्रावलियां लंबित हैं। इसकी वजह से किसानों को परेशानी हो रही है। समीक्षा बैठक में जानकारी होने के बाद डीएम ने एलडीएम को निर्देश जारी किया है कि लंबित पत्रावलियों का निस्तारण कराएं, जो शाखा प्रबंधक केसीसी जारी करने में रुचि न ले रहे हो उनको चेतावनी दी जाए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप