एक युवक से शातिरों ने रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर साढ़े नौ लाख रुपये ठग लिए। बदले में फर्जी ज्वाइनिग लेटर थमा दिया। इसकी जानकारी जब युवक को हुई तो उसने शातिरों से रकम वापस मांगी। समझौते के आधार पर पूरी रकम वापस न करने पर पीड़ित ने गुरुवार को अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार से गुहार लगाई।

कोखराज थाना क्षेत्र के निधियावां निवासी सारंग धर खेतीबाड़ी करते हैं। आरोप है कि बिसारा गांव के दो युवकों ने सारंग धर के बेटे जितेंद्र पांडेय को रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा दिया। सालभर पहले जितेंद्र से 10 लाख 90 हजार रुपये खर्च होने की बात कही। झांसे में आए जितेंद्र ने दोनों शातिरों ने रुपये दे दिए। जितेंद्र के मुताबिक, छह माह पहले उसे ज्वाइनिग लेटर थमाया गया। जब उसने अपने स्तर से पता लगाया तो मालूम हुआ कि लेटर फर्जी है। यह सुनकर उसके होश उड़ गए। जितेंद्र ने घर पहुंचकर परिवार वालों को जानकारी दी। जितेंद्र ने रकम वापस मांगी तो वे टालमटोल करते रहे। जब जितेंद्र ने पुलिस से शिकायत करने की बात कही तो उन्होंने जितेंद्र के खाते में तीन लाख 40 हजार रुपये ट्रांसफर कर दिए। शेष 7.50 लाख रुपये बाद में देने की बात कही। निश्चित समय बीतने के बाद भी जब जितेंद्र को रकम नहीं मिली तो दोबारा तकादा किया। इसके बावजूद उन्होंने रुपये वापस नहीं किए। इतना ही नहीं, जितेंद्र का यह भी आरोप है कि शातिरों ने कहीं शिकायत करने पर हत्या की धमकी दी। इससे आहत पीड़ित जितेंद्र ने थाने में शिकायत की, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। हालांकि एएसपी ने कोतवाल को जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस