कासगंज, संवाद सहयोगी : उत्तर भारत की प्रसिद्ध तीर्थ नगरी सोरों के पर्यटन विकास के लिए सरकार ने गंभीरता दिखाई है। शासन की ओर से पर्यटन विभाग के लिए पत्र लिखकर स्पष्ट कर दिया गया है कि 995 लाख रुपये सोरों के पर्यटन विकास के लिए स्वीकृत कर दिए गए हैं। इसमें से पहली किस्त के रूप में 60 लाख रुपये भी दे दिए गए हैं। सोरों के विकास के लिए धनराशि स्वीकृति होने से तमाम उम्मीद जागी हैं। अब यहां पर्यटन को बढ़ावा मिल सकेगा।

995 लाख रुपये स्वीकृत होने की पुष्टि सोरों की पालिका अध्यक्ष मुन्नी देवी ने की है। उन्होंने एक पत्र भी साझा किया है। इसमें उत्तर प्रदेश शासन के उप सचिव की ओर से महा निदेशक पर्यटन को पत्र जारी किया गया है और बताया गया है कि राज्यपाल ने पर्यटन विकास के लिए 995 लाख रुपये क स्वीकृति दे दी है। पत्र में यह भी बताया गया है कि यह उत्तर प्रदेश प्रोजेक्ट कारपोरेशन लिमिटेड द्वारा किया जाएगा। इस संस्था को जिम्मा सौंप दिया गया है। इधर, पर्यटन विकास के लिए धनराशि स्वीकृत होने और एक किस्त मिलने की खबर से लोगों में सोरों के विकास की उम्मीदें जाग उठी हैं, हालांकि आंदोलनकारी अभी सरकार के इस निर्णय से संतुष्ट नहीं हैं। छह महीने पहले पालिका ने एक प्रस्ताव पास किया था। उस प्रस्ताव की एवज सरकार ने धनराशि स्वीकृत की है। इससे हर की पौड़ी का विकास किया जाएगा। सरकार का निर्णय सराहनीय है।

- मुन्नी देवी, पालिका अध्यक्ष सरकार का निर्णय स्वागत योग्य है, लेकिन क्षेत्र को पर्यटन विकास के साथ-साथ धार्मिक विकास की भी जरूरत है, क्योंकि यह आस्था से जुड़ी हुई नगरी है।

- प्रदीप रघुनंदन,

आंदोलनकारी

Edited By: Jagran