कासगंज, संवाद सहयोगी : मेरी बेटी स्कूल गई और लौटकर घर नहीं आई। दोपहर बाद उसकी मौत की खबर मिली। उसकी हत्या की गई है, लेकिन पुलिस मामले को दबाने में जुटी है। पुलिस का यही रवैया रहा तो हम मजबूरन स्वजन सहित आग लगाकर आत्महत्या कर लेंगे। इसकी जिम्मेदार पुलिस होगी। यह बातें मृतक छात्रा प्रिया के पिता संदीप राजपूत ने कही।

रविवार को छात्रा के पिता ने अपने आवास पर पत्रकारों से बात की। वे बेहद दुखी दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि बेटियां कहां सुरक्षित हैं। दिनदहाड़े उनकी हत्या हो रही हैं। मेरी बेटी स्कूल गई। पूरा परिवार उसके लौटने का इंतजार कर रहा था, लेकिन उसकी मौत की खबर आई। पुलिस कह रही है कि खेलते में ट्रिगर दब गया। यह गलत है। बेटी के चेहरे पर निशान और शरीर के कपड़ों पर बिखरे बाल इस बात की गवाही दे रहे हैं कि बेटी ने हत्या से पहले हत्यारों से जंग लड़ी थी। वह कुछ कर नहीं पाई। पुलिस सिर्फ आश्वासन दे रही है। पुलिस के पास गवाह के रूप में सहेलियां हैं और सबूत के रूप में रायफल भी। जब गवाह, सबूत मौजूद हैं तो पुलिस हत्यारोपित को गिरफ्तार क्यों नहीं कर रही। जब बेटी नहीं तो हम ही जीकर क्या करेंगे

छात्रा प्रिया की मां आरती राजपूत ने कहा कि जब इस दुनिया में बेटी ही नहीं रही और उसे न्याय दिलाने वाला कोई नहीं है, तो हम ही जीकर क्या करेंगे। इससे तो अच्छा है कि हम स्वजन सहित आत्महत्या ही कर लें। यदि 24 घंटे में गिरफ्तारी न हुई तो इस कदम के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

Edited By: Jagran