जागरण संवाद सहयोगी, कासगंज: मकर संक्रांति पर्व को लेकर घर-घर तैयारियां की गईं। जरूरतमंदों और ब्राह्मणों को दान देने के लिए लोगों ने खरीदारी की। गुड़ और तिल से बने खाद्यान्न की सबसे अधिक बिक्री हुई। बाजारों में सजी गजक की दुकानों पर खरीदारों की भीड़ रही।

मकर संक्रांति का पर्व जिलेभर में गुरुवार को मनाया जाएगा। पर्व पर भगवान सूर्य की आराधना और दान करने का दिन माना गया है। इस दिन दान करने से कई गुना फल प्राप्त होता है। इसी मान्यता के चलते हिदूवादियों ने पर्व को लेकर पूर्व संध्या पर तैयारियां कीं। शहर के बाजारों में तिल, गुड की गजक, लड्डू आदि उत्पादों की दर्जनों अस्थायी दुकानें सजी थीं, जिन पर खरीदारों की सुबह से ही भीड़ रही। लोगों ने दान करने के लिए कंबल, ऊनी वस्त्र आदि वस्तुएं खरीदीं। खिचड़ी के लिए चावल, दाल और गजक की सबसे अधिक बिक्री हुई। गंगा स्नान को पहुंचेंगे श्रद्धालु

--------

मकर संक्रांति पर्व पर गंगा स्नान की भी परंपरा है। इसी परंपरा के निर्वहन के लिए सोरों की हरपदी गंगा, लहरा गंगा घाट, कछला गंगा नदी एवं पटियाली के कादरगंज घाट पर भी श्रद्धालु स्नान के लिए पहुंचेंगे। स्नानार्थी सूर्य को अ‌र्घ्य देंगे और दान, पुण्य करेंगे। इसके लिए गंगा घाटों पर अतिरिक्त व्यवस्थाएं की गयी हैं। जिससे कि श्रद्धालुओं को परेशानी न हो। होंगे भंडारे और धार्मिक अनुष्ठान

-------

मकर संक्रांति पर्व पर तमाम सामाजिक संस्थाओं ने भंडारे के आयोजन की तैयारियां की हैं। शहर और कस्बों में भंडारे लगाए जाएंगे। इनमें पूड़ी-सब्जी के अलावा, खिचड़ी का प्रसाद वितरित किया जाएगा, मंदिरों में धार्मिक अनुष्ठान होंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021