कासगंज, जागरण संवाददाता। सवारियों को कार में बैठाकर लूट करने वाले लुटेरे गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया। पीड़ित की सूचना पर सक्रिय हुए पुलिस ने सभी राहों पर चेकिग शुरू कर दी। इस दौरान कासगंज से लौटते वक्त लुटेरे पुलिस की गिरफ्त में आ गए। खुद को घिरता देख लुटेरों ने पुलिस पार्टी पर फायरिग भी की, लेकिन पुलिस ने घेराबंदी कर इन्हें कार सहित पकड़ लिया।

रविवार देर शाम सिकंद्राराऊ क्षेत्र के गांव भटीकरा निवासी रिकू पुत्र अशोक कुमार शाम सात बजे करीब अगसौली चौराहे पर कासगंज आने के लिए वाहन का इंतजार कर रहे थे। इस दौरान एक ईको कार यहां पर आकर रुकी। उन्होंने इन्हें सवारी के रूप में बैठा लिया। ढोलना थाना क्षेत्र में कार चालक और अन्य साथियों ने रिकू के साथ मारपीट शुरू कर दी। उसकी जेब में रखी 3500 रुपये छीनने के बाद उसे मार्ग में उतार कर भाग गए। रिकू ने घटना की सूचना थाना ढोलना पुलिस को दी। पुलिस ने ईको सवार लुटेरों की तलाश शुरू कर दी। सीमा पर चेकिग शुरू करा दी। इस दौरान कार सवार लुटेरों के कासगंज से आते वक्त पुलिस ने चेकिग के लिए रोका तो लुटेरे हड़बड़ा गए। कार को भगाने का प्रयास किया। पुलिस के घेराबंदी करने पर बचने के लिए फायरिग कर दी। पुलिस ने चारों तरफ से कार को घेर लिया। तलाशी के दौरान पुलिस को लूटे गए 3500 रुपये भी मिल गए। लुटेरों के पास से तमंचा एवं कारतूस भी बरामद हुआ है। सोमवार को एसपी अशोक कुमार शुक्ल ने भी लुटेरों से पूछताछ की। लुटेरों ने अपने नाम राजेश जाटव पुत्र ओमप्रकाश निवासी नगला पोता जिला एटा और रफीक पुत्र लियाकत निवासी गुरसहायगंज जिला कन्नौज बताए। एसपी ने कहा कि लुटेरे शातिर हैं तथा कार में सवारी बैठा लूट की वारदात को अंजाम देते हैं।

पहले भी की लूट: पुलिस पूछताछ में लुटेरों ने बताया कि इससे पहले भी वह लूट की वारदात को अंजाम दे चुके हैं। कुछ समय पहले अगसौली चौराहे से दो व्यक्तियों को कार में बैठाकर उनसे भी रूपये लूटे थे। रिकू से लूट के बाद योजनावद्ध तरीके से भागने की कोशिश की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप