सोरों, संवाद सूत्र : सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा पर्व पर गंगाघाट पर आस्था का सैलाब उमड़ा। श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई। हर-हर गंगे के स्वर घाटों पर गूंजते रहे। श्रद्धालुओं ने धार्मिक अनुष्ठान कराए। गंगा स्नान के बाद दान पुण्य किया। तीर्थनगरी सोरों में हरिपदी गंगा की परिक्रमा लगाकर देव दर्शन किए।

भगवान बुद्ध के अवतरण दिवस पर गंगा स्नान करने का विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस दिन गंगा स्नान करने से मनवांचित फल की प्राप्ति होती है और जन्म जन्मांतर के पापों से मुक्ति मिलती है। परिवार में खुशहाली आती है। इसी मान्यता के तहत सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा पर गंगाघाटों पर स्नान के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़े। राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, दिल्ली सहित उत्तर प्रदेश के दूर-दराज इलाकों से पहुंचे श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया। सुबह से ही स्नानार्थियों की भीड़ उमड़ने लगी। दोपहर तक लाखों श्रद्धालु गंगाघाटों पर पहुंचे। तीर्थ नगरी सोरों के हरिपदी घाट के अलावा लहरा, कछला, कादरगंज गंगाघाट पर श्रद्धालुओं की भीड रही। चहुंओर हर-हर गंगे के स्वर गूंज रहे थे। वातावरण पूरी तरह भक्तिमय था। सोरों में श्रद्धालुओं ने परिक्रमा मार्ग पर जगह-जगह मंदिरों में देव दर्शन किए। भगवान वाराह के मंदिर में श्रद्धालुओं की अधिक भीड़ रही। बालाजी मंदिर, गंगा मंदिर, चक्रेश्वर मंदिर, रेवती बलदाऊ मंदिर, श्याम वराह मंदिर, काल भैंरव मंदिर, गोपालेश्वर मंदिर, शनि मंदिर, मानस मंदिर, लड्डूवाले बालाजी मंदिर, योगेश्वर, भूतेश्वर, और सोमेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। घाटों पर कराए गए मुंडन संस्कार

गंगाघाटों पर धार्मिक अनुष्ठान के आलावा मुंडन संस्कार भी हुए। श्रद्धालुओं ने अपने बच्चों के मुंडल कराए और दान पुण्य कर बच्चों के स्वास्थ्य और दीर्घायु की कामना की। दिनभर घाटों पर कार्यक्रम होते रहे। सुरक्षा के रहे कड़े इंतजाम

गंगाघाटों पर श्रद्धालुओं की सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस ने गंभीरता दिखाई। घाटों पर पुलिस पिकेट लगाई गई। पुलिस के अफसर अपने-अपने क्षेत्रों में गंगाघाटों पर व्यवस्था देखते रहे। असामाजिक तत्वों पुलिस की पैनी नजर रही। यातायात के लिए करनी पड़ी मशक्कत

यातयात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए परिवहन विभाग और यातायात पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। कैनाल बाईपास से बड़े वाहनों को निकाला गया। यातायात प्लान बनाकर पुलिस ने कछला से सोरों तक जगह-जगह बेरिकेडिग की गई थी। तीर्थ नगरी के मेले में जमकर खरीदारी

तीर्थ नगरी सोरों में बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर मेला भी लगा था। मेला परिसर के बाहर हरिपदी गंगा से कासगंज और सलेमपुर की ओर जाने वाले मार्ग पर दुकानदारों ने दुकानें लगाई। मेले में पहुंचे श्रद्धालुओं ने जमकर खरीदारी की।

Edited By: Jagran