कासगंज, संवाद सहयोगी: बुखार प्रतिदिन लोगों की जान ले रहा है। शनिवार को तीन वर्षीय मासूम सहित तीन लोगों की बुखार से मौत हो गई। जिले में बुखार से मरने वालों का आंकड़ा 106 पहुंच गया है। यहा और बात है कि स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक बुखार से कोई मौत होना नहीं स्वीकार किया है। छह डेंगू पीड़ित समेत बुखार के 67 रोगी मिले हैं।

लगभग दो माह का समय होने जा रहा है। बुखार जिले में कहर बनकर टूटा है। बुखार से मरने वालों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। स्वास्थ्य विभाग के सभी प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं। प्रतिदिन डेंगू और बुखार के रोगियों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। शनिवार को शहर के दुर्गा कालोनी निवासी 65 वर्षीय बदन सिंह की डेंगू से मौत हो गई। वह कई दिन से बीमार थे। स्वजन उन्हें बरेली ले जा रहे थे। बरेली पहुंचने से पहले ही उन्होंने दम तोड़ दिया।

कासगंज के गांव घिनौना निवासी देवेंद्र यादव की भी बुखार से मौत हो गई है।

सोरों के गांव सलेमपुर बीबी निवासी मंगली के तीन वर्षीय पुत्र राहुल को पांच दिन पहले ही बुखार आया था। उसका उपचार शहर के निजी चिकित्सक के यहां चल रहा था। शनिवार दोपहर मासूम की मौत हो गई। मासूम की मौत से परिवार में कोहराम मचा है। जिले में बुखार से मरने वालों की संख्या 106 हो गई है। डेंगू और बुखार रोगियों के मिलने का क्रम भी जारी है। सहावर स्वास्थ्य केंद्र को उपलब्ध कराई जाए डेंगू जांच की किट

सहावर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर डेंगू जांच की किट उपलब्ध नहीं हैं। रोगियों को जिला अस्पताल जाना पड़ता है या फिर सैंपल जिला अस्पताल भेजने पड़ते हैं। जांच मिलने में दो से तीन दिन का समय लग रहा है। नगर पंचायत जाहिदा सुल्तान ने डीएम से मांग की है कि 30 बैड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर डेंगू जांच के लिए किट उपलब्ध कराई जाए। शोपीस बनी खड़ी एक्सरा मशीन चलाने के लिए भी टेक्नीशियन की भी नियुक्ति की जाए। स्वास्थ्य निदेशक ने जाना ढोलना का हाल

गांव ढोलना में तीन दिन पूर्व बुखार से तीन लोगों की मौत हुई थी। शनिवार को स्वास्थ्य विभाग के निदेशक डा. अनुज कुमार ने गांव ढोलना पहुंचकर वहां का हाल जाना है। रोगियों से स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी जा रही स्वास्थ्य सेवाओं की जानकारी ली है। ढोलना के स्वास्थ्य अधीक्षक डा. अनुपम ने बताया कि निदेशक ने उन परिवारों में जाकर भी स्वजन से बातचीत की है जिन परिवारों में बुखार से मौत हुई है। एसीएमओ डा. अवनींद्र कुमार, डा. विकास यादव, डा. विपिन मौजूद रहे। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुखार प्रभावित क्षेत्रों में एंटीलार्वा दवा का छिड़काव कराया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम लोगों को जागरूक कर रही हैं। 14 टीमें स्वास्थ्य परीक्षण के लिए लगाई गई हैं। जिले में अब तक डेंगू बुखार से कोई मौत नहीं हुई है।

- डा. अनिल कुमार, सीएमओ

Edited By: Jagran