कासगंज, संवाद सहयोगी : जिले में शनिवार को बुखार से मासूम सहित तीन लोगों की मौत हो गई।अब तक बुखार से मरने बालों की संख्या 44 तक पहुंच गई है। डेंगू, मलेरिया और वायरल फीवर के रोगी बढ़ रहे हैं। स्वास्थ्य केंद्रों एवं निजी चिकित्सकों के यहां रोगियों की कतारें लग रही हैं।

काल बना बुखार जिले में अपने पैर फैलाता ही जा रहा है। प्रतिदिन मलेरिया, डेंगू और वायरल फीवर के रोगियों की संख्या बढ़ रही है। शनिवार को कासगंज के गांव सलेमपुर वीवी निवासी दिनेश के 18 वर्षीय पुत्र ईशू की मौत हो गई। वह कई दिन से बुखार से पीड़ित था। उसका उपचार स्थानीय चिकित्सक के यहां चल रहा था। सुबह जब हालत बिगड़ी तब स्वजन उसे उपचार के लिए अलीगढ़ ले जा रहे थे। रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। स्वजनों के मुताबिक ईशू डेंगू बुखार से पीड़ित था। वहीं, बुखार से पीड़ित इसी गांव के ढाई वर्षीय बाबू पुत्र नेम सिंह की अलीगढ़ के निजी चिकित्सालय में शुक्रवार की देर रात मौत हो गई। गंजडुंडवारा के मुहल्ला आबादी निवासी 45 वर्षीय सुरेश पुत्र अजय कई दिन से बुखार से पीड़ित थे। स्वजन उसे उपचार के लिए बरेली ले गए। वहां देर रात उनकी मौत हो गई। इसी के साथ जिले में बुखार से मरने वालों की संख्या 44 हो गई है। वहीं, स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में कोई मौत दर्ज नहीं है। गंजडुंडवारा निवासी सत्यप्रकाश डेंगू पाजिटिव मिले हैं। उन्हें उपचार के लिए स्वजन एटा ले गए हैं। जिले में अब तक डेंगू बुखार से कोई मौत नहीं हुई है। अब तक कुल 1068 बुखार के रोगी मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीमें ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर लगा रही हैं। डेंगू और मलेरिया की जांच की जा रही है।

- डा. अनिल कुमार, सीएमओ

Edited By: Jagran