कासगंज, संवाद सहयोगी : जिले में बुखार ने सोमवार को सात माह के मासूम की जान ली है। बुखार से मरने वालों की संख्या में तीन दर्जन का आंकड़ा पार कर चुकी है। डेंगू के सक्रिय रोगियों की संख्या भी बढ़ रही है। वायरल और मलेरिया रोगियों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है।

जिले में जानलेवा बुखार अपना कहर बरपा रहा है। मरने वालों का सिलसिला थम नहीं रहा है। गंजडुंडवारा के ग्राम गनेशपुर निवासी मोहम्मद मारू की सात माह की पुत्री आमला को शनिवार को बुखार आया था। उसका उपचार गंजडुंडवारा के निजी चिकित्सक के यहां कराया गया। हालत में सुधार न होने पर स्वजन उसे उपचार के लिए एटा के निजी चिकित्सक के यहां ले गए। वहां भी हालत में सुधार नहीं हुआ। सोमवार की सुबह मासूम की मौत हो गई। मासूम की मौत के साथ ही जिले में बुखार से मरने वालों की संख्या 37 हो गई है। डेंगू से पीड़ित सहावर और अमांपुर के दो युवक उपचार के बाद स्वस्थ्य होकर अलीगढ़ से वापस लौटे हैं।

आंकड़ों की नजर से

- बुखार के सक्रिय रोगी 694

- डेंगू के लक्षण वाले मरीज 374

- मलेरिया के सक्रिय रोगी 09

- डेंगू के सक्रिय रोगी 31

- अब तक कराए गए आरडीटी एनएसवन टेस्ट 379 पहुंची टीमें किया स्वास्थ्य परीक्षण

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रविवार को किसरौली, गनेशपुर, नौगवां, भरगैन, शाहपुर नगरिया, नगला मानसिंह, ददवारा, रानामऊ, बसई, ठठेरपुर, अमनपुर, मौजपुर, हसनपुन, विक्रमपुर में लोगों का परीक्षण कर दवाएं वितरित कीं। 104 रोगियों को दवा देकर उन्हें स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया गया। जिले में अब तक 694 लोग बुखार से पीड़ित मिले हैं। डेंगू से कोई मौत नहीं हुई है। 31 लोग एनएसवन जांच में डेंगू के रोगी पाए गए हैं। सभी का एलाइजा टेस्ट कराया गया है।

- डा. अनिल कुमार, सीएमओ

Edited By: Jagran