कासगंज, जागरण टीम। उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में पिता ने मासूम को नहर में फेंका था। सहावर क्षेत्र में खितौली मोड़ चौराहे के पास नहर में फेंकी बच्ची की पुलिस ने गोताखोरों से तलाश कराई, मगर वह नहीं मिली। पत्नी ने पति के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने से मना कर दिया तो फिर खितौली गांव के चौकीदार ने घटना की तहरीर दी। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आरोपित पिता को जेल भेज दिया।

नहर में फेंके थे चार बच्चे

अमांपुर क्षेत्र के गांव शेखपुरा निवासी पुष्पेंद्र कुमार ने अपने चार मासूम बच्चों को सोमवार को दोपहर में सहावर क्षेत्र के खितौली मोड़ चौराहे पर ले जाकर उन्हें नहर में फेंक दिया था। इनमें बड़ा पुत्र सोनू (12 वर्ष) और तीन बेटियां प्रभा (10 वर्ष), काजल (8 वर्ष) और हेमलता उर्फ नैना (5 वर्ष) थीं। बेटा सोनू और बेटी प्रभा नहर के किनारे कम पानी होने के कारण किसी तरह बाहर निकल आए थे। प्रभा ने पास में ही डूब रही अपनी छोटी बहन हेमलता उर्फ नैना को भी खींच लिया था। मगर काजल पानी में ओझल हो चुकी थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने भी गोताखोर बुलाकर नहर में बच्ची की तलाश कराई मगर उसका पता नहीं लग सका था।

ये भी पढ़ें...

Basant Panchami पर गुलाल उड़ाकर ब्रज में होली की शुरुआत करेंगे बांकेबिहारी, आराध्य संग होली खेलने आएंगे भक्त

गोताखोरों ने की तलाश

सीओ सहावर डीके पंत मंगलवार को सुबह भी गोताखोरों को लेकर नहर पर पहुंचे और फिर से बच्ची की तलाश कराई। गोताखोरों के लगातार चार घंटा मशक्कत करने के बाद भी बच्ची का पता नहीं लगा। इधर, पुलिस ने घटना के एक घंटा बाद ही पुष्पेंद्र को उसके गांव से हिरासत में ले लिया था। सूचना पर उसकी पत्नी कमलेश भी मायके सोरों क्षेत्र के गांव होडलपुर से पिता सूबेदार के साथ सहावर थाने पहुंच गई थी।

ये भी पढ़ें...

Bank Holidays In Agra: जल्दी निपटा लें काम, आगामी सात में दो दिन खुलेंगे बैंक, इन तारीखों को रहेगा अवकाश

पुलिस ने उससे पति के खिलाफ तहरीर देने के लिए कहा, मगर वह तैयार नहीं हुई। वह और उसके पिता पुलिस से यही अनुरोध करते रहे कि पुष्पेंद्र जेल चला गया तो परिवार बिखर जाएगा। वह नहर में डूबी बेटी का सब्र करने को तैयार थे। पुलिस ने जब नहर से निकल आया उसका बेटा और दो बेटियां उसके सुपुर्द कर दीं तो वह उन्हें लेकर घर चली गई, मगर पति के खिलाफ तहरीर नहीं दी।

चौकीदार की तहरीर पर लिखी रिपोर्ट

बाद में खितौली के चौकीदार चोबसिंह ने घटना की तहरीर दी। इस पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर पुष्पेंद्र को जेल भेज दिया। जान लेने के प्रयास में लिखा मुकदमा: खितौली चौकीदार की तहरीर पर पुलिस ने पुष्पेंद्र के खिलाफ बच्चों को बहला-फुसलाकर नहर पर लाने और जान लेने का प्रयास करने के आरोप में आइपीसी की धारा 363 और 307 में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस का कहना है कि बच्ची की तलाश की जा रही है। वह नहीं मिलती है या उसका शव मिलता है तो मुकदमे को हत्या की धारा 302 भी बढ़ा दी जाएगी।

बच्ची की दूसरे दिन भी नहर में तलाश कराई गई, मगर उसका पता नहीं लग सका। खितौली के चौकीदार की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर आरोपित बाप को न्यायालय के समक्ष पेश किया गया था। न्यायालय ने उसे अपनी अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया है। - डीके पंत, सीओ सहावर 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट