कासगंज, संवाद सहयोगी : सिढ़पुरा के गांव पिथनपुर में बालक का अपहरण कर हत्या कर देने के मामले में पुलिस ने प्रकाश में आए तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। एक आरोपित को पुलिस मुठभेड के बाद पकड़ा है। आरोपित के पैर में गोली लगी है। उसे अलीगढ़ रेफर कर दिया है।

बीते सेामवार को गांव पिथनपुर निवासी किशनवीर का 10 वर्षीय पुत्र लोकेश सोलंकी लापता हो गया था। मंगलवार को जब फोन पर 40 लाख की फिरौती मांगी गई तो मामला अपहरण का सामने आया। पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। जिला पुलिस के अलावा एसटीएफ को भी बच्चे की सकुशल बरामदगी के लिए लगाया गया। बुधवार को शाम लगभग सात बजे बच्चे की तलाश में जुटी पुलिस टीम को गांव के ही एक खेत में रखे बाजरा की करब में बच्चे का शव मिला। आरोपितों की तलाश में जुटी पुलिस को जानकारी मिली कि बच्चे की हत्या के मामले में गांव के राज बहादुर व उसके दो साथी अजय व अमर पाल का हाथ है। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए तो गुरुवार को तड़के लगभग 3:40 बजे पुलिस ने सिढ़पुरा अमांपुर रोड पर एक आरोपित अजय को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की गोली पैर में लगने से आरोपित घायल हो गया। उसे उपचार के लिए अलीगढ़ भेज दिया। पुलिस ने मौके से एक बिना नंबर की मोटर साइकिल, एक तमंचा, एक खोखा कारतूस और दो कारतूस बरामद किए है। पुलिस ने दो अन्य आरोपितों राज बहादुर और अमर पाल को गुरुवार सुबह गिरफ्तार कर लिया है। राज बहादुर ने रची थी हत्या की साजिश

बालक की अपहरण और हत्या का मुख्य आरोपी गांव का ही राज बहादुर है। राज बहादुर का बालक लोकेश के पिता किशन वीर से जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। इसी विवाद के चलते राज बहादुर ने बालक के अपहरण और हत्या की साजिश रची थी। उसने अजय और अमर पाल को पैसे का लालच दिया था। मोबाइल पर गाना सुनाने के बहाने बच्चे को खेत पर ले गए थे। वहां उसकी रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी। आरोपितों ने बताया है कि उन्होंने 18 जनवरी को ही बालक की हत्या कर दी थी। पुलिस को गुमराह करने के लिए दूसरे दिन फिरौती के लिए फोन किया था। गिरफ्तार किए गए आरोपित राज बहादुर और अमर पाल को अपहरण और हत्या की धाराओं में जेल भेजा है। पुलिस मुठभेड में घायल अजय को उपचार के लिए अलीगढ़ भेजा गया है।

- मनोज कुमार सोनकर एसपी कासगंज

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप