जागरण संवाददाता, कासगंज: कस्बा के मशहूर दरगाह हजरत मामू-भांजे साहब के मजार पर सालाना उर्स की शुरुआत में जियारत को सैलाब उमड़ पड़ा। ¨हदू- मुस्लिम समाज के लोगों ने चादरपोशी कर प्रार्थना की। इस दौरान कव्वालों ने समां बांधा।

सालाना उर्स के मौके पर दरगाह मामा- भांजे की कमेटी की तरफ से चादर पेश की गई। रात ईशा की नमाज के बाद महफिल ए कव्वाली का आयोजन किया गया। कव्वालों ने अपने- अपने कलाम शयराना अंदाज में पढ़े। या मोहम्मद का करम है, या मौला का करम है, तारीफ क्या करूं नबी की। कमेटी और सज्जादा नशीन रिफाकत अली ने नगर पंचायत चेयरमैन प्रतिनिधि मुईर अहमद खान को उर्स और मेला मामू-भांजे साहब की कमेटी का सदर बने रहने का ऐलान किया।

इस मौके पर मुईर अहमद खान का पगड़ी बांधकर सज्जादा नशीन रिफाकत अली ने स्वागत किया और सभासदों का शॉल उड़ा कर सम्मान दिया गया। इस मौके पर शाहिद खान ठेकेदार, मुस्तकीम बाबा ,फैजान खान, इरशाद, काले खान नौशाद कुरैशी, भूरे, काले कुरैशी ,सलीम कुरैशी, गुंजन वर्मा ,रामसेवक, सभासद रशीद अहमद ,नौशाद भाई, मुराद मियां, समी अंसारी, शमसुद्दीन आदि मौजूद रहे।

By Jagran