कासगंज, संवाद सहयोगी : जिले में गुरुवार को कोरोना संक्रमित दो महिलाओं की मौत हो गई। एक ने मिशन अस्पताल एवं दूसरी ने जिला अस्पताल में दम तोड़ा। शवों का स्वजन ने कोरोना प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार किया।

जिले में भले ही संक्रमण की गति धीमी पड़ी हो, लेकिन कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़ रही है। अब तक लगभग 110 से अधिक लोग संक्रमित होकर काल के गाल में समा चुके हैं। शहर के लक्ष्मीगंज निवासी रंजना पत्नी दिनेश चंद्र माहेश्वरी कोरोना संक्रमित थी और मिशन अस्पताल में भर्ती थीं। गुरुवार को उनकी मौत हो गई। जिला अस्पताल में भर्ती ढोलना निवासी विनीता पत्नी चंद्रपाल की भी कोरोना से मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन ने कोरोना प्रोटोकाल के तहत शव स्वजन को सौंपे। स्वजन ने शवों का अंतिम संस्कार कर दिया है। बुखार से पीड़ित युवक की मौत

शहर के मुहल्ला जय-जय राम निवासी 35 वर्षीय पप्पू खां कई दिन से बुखार से पीड़ित था। निजी चिकित्सक के यहां उपचार चल रहा था। गुरुवार को सांस लेने में दिक्कत हुई। स्वजन उसे कहीं ले जाते उससे पहले ही उनकी मौत हो गई। युवक का कोरोना टेस्ट नहीं हुआ था। स्वजनों ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया है। कोविड नियमों के अनुसार हो अंतिम संस्कार

संवाद सहयोगी, कासगंज : कलक्ट्रेट परिसर में डीएम ने गुरुवार की शाम अधीनस्थों के साथ कोरोना को लेकर समीक्षा की है। कोविड नियमों के अनुसार मृतकों का अंतिम संस्कार कराने को कहा। उन्होंने गरीबों, असहायों के लिए जिला प्रशासन द्वारा सामुदायिक रसोई संचालित कर भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

डीएम ने सीपी सिंह ने कहा है कि आइसोलेट हुए प्रत्येक रोगी को दिन में कम से कम तीन बार फोन पर उसके हाल चाल जाने जाए। जो भी रोगी मृत होते है। इनका शव गंगा नदी या अन्य नदी नहरों में प्रवाहित न किया जाए। उनका अंतिम संस्कार कोविड नियमों के अनुसार ही किया जाए। कोरोना क‌र्फ्यू में जिला प्रशासन द्वारा सामुदायिक रसोई संचालित कर गरीबों, असहायों एवं निराश्रितों को भोजन के पैकिट वितरित किए जाए। चिकित्सालयों में भोजन की गुणवत्ता होनी चाहिए। प्रतिदिन सैंपल कलेक्टशन की पोर्टल पर फीडिग होनी चाहिए। एसपी अनुपम सिंह, सीडीओ तेज प्रताप मिश्र, सीएमओ डा. अनिल कुमार, डिप्टी सीएमओ डा. अविनाश मौजूद रहे।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट