कासगंज, जागरण टीम : संविधान दिवस पर राष्ट्रीय लोकदल द्वारा कस्बा बिलराम स्थित कैंप कार्यालय पर विचार गोष्ठी हुई। डा. भीमराव आंबेडकर को याद किया गया। शहर के कोठीवाल आढ़तिया महाविद्यालय में कार्यक्रम हुआ। भाषण प्रतियोगिता कराई गई।

लोकदल की गोष्ठी में कार्यकर्ताओं ने डा. भीमराव आंबेडकर के चित्र पर पुष्प चढ़ाए। जिलाध्यक्ष शमीम अहमद अल्वी ने कहा कि डा. भीमराव आंबेडकर ने देश को एक ऐसा संविधान दिया जो विश्व का सबसे बड़ा संविधान है। सभी धर्मो के लोगों को बराबर का अधिकार दिया गया है। संविधान की देन है, जो कि देश अखंड भारत कहलाता है। अमर सिंह यादव, थान सिंह कश्यप, ज्ञान सिंह गौतम, मोहनलाल गौतम, जमुनादास गौतम, राजेंद्र सिंह गौतम, आसिफ अली, विजेंद्र यादव, किशन सैनी, सिराजुद्दीन सैफी, शारिक अली खां, इमरानुद्दीन खां, आमिर अब्बासी, शहाबुद्दीन अब्बासी, रामजी लाल दिवाकर मौजूद रहे। शहर के कोठीवाल आढ़तिया महाविद्यालय में भी संविधान दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। भाषण प्रतियोगिता कराई गई। डा. राधाकृष्ण दीक्षित, डा. केके सिंह सहित अन्य अतिथियों ने संविधान दिवस को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम को प्राचार्य डा. एके रस्तोगी, डा. अंजना वशिष्ठ, विनय कुमार जैन, अनिल माहेश्वरी ने भी संबोधित किया। वक्ताओं ने देश के संविधान को प्रगतिशील और विकासोन्मुखी बताया । विद्यार्थियों को संविधान की रक्षा का संकल्प दिलाया गया। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान राघव चौधरी, द्वितीय स्थान प्रशांत, तृतीय स्थान तरुण एवं सांत्वना पुरस्कार नीलाक्षी को दिया गया। विजेताओं को स्मृति चिन्ह और प्रशस्ति पत्र दिए गए। डा. बीके तोमर, एएम राठी, एसपी गुप्ता, डा. मिथलेश वर्मा, डा. संतोष कुमार, डा. पवन दुबे, डा. बृजेश कुमार, डा. केशव पांडेय, डा. सविता अंजुम मौजूद रही। विद्यार्थियों को बताया संविधान का महत्व

गंजडुंडवारा के हरनारायण इंटर कालेज में संविधान दिवस पर हुए कार्यक्रम में विद्यालय के प्रधानाचार्य धमेंद्र कुमार ने कहा कि भारत का संविधान आज के दिन ही बनकर तैयार हुआ था। संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डा. भीमराव आंबेडकर के 125वीं जयंती पर 26 नबंवर 2015 को पहली बार भारत सरकार द्वारा संविधान दिवस संपूर्ण भारत में मनाया गया। इससे पहले इसे राष्ट्रीय कानून दिवस के रूप में मनाया जाता था। संविधान सभा ने भारत के संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवम्बर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया। चंद्रभान सिंह, एवरन सिंह, ओम नारायण, श्यामवीर सिंह, संजीव कुमार, मोहम्मद अजीम, डा. अर्चना जायसवाल, ओम प्रकाश, अनिल सिंह राठौर मौजूद रहे।

Edited By: Jagran