जासं, कासगंज: शहर में बुधवार को पुलिस प्रशासन और पालिका की संयुक्त टीम ने अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया। इन्हें व्यापारियों के आक्रोश का सामना भी करना पड़ा। व्यापारी अतिक्रमण के नाम पर मनमानी का आरोप लगाते हुए सड़कों पर आ गए और उन्होंने प्रशासन की कार्रवाई को गलत बताते हुए विरोध किया। बाद में व्यापारियों और प्रशासन के बीच हुए समझौते के बाद स्वयं अतिक्रमण हटाने पर सहमति बनी। प्रशासन ने स्वयं अतिक्रमण न हटाने पर पुन: कार्रवाई की चेतावनी दी।

पूर्व नियोजित योजना के तहत पुलिस प्रशासन और पालिका के अधिकारियों की टीम कर्मचारियों के साथ जेसीबी मशीन और बड़े लाव-लश्कर के साथ अतिक्रमण हटाने के लिए निकली। टीम का नेतृत्व कासगंज के उपजिलाधिकारी सुनील कुमार, सीओ गवेंद्र गौतम और अधिशासी अधिकारी आरपी श्रीवास्तव कर रहे थे। पालिका से शुरू हुआ अतिक्रमण हटाओ अभियान जब सोरों गेट बाजार में पहुंचा तो व्यापारी उखड़ गए और वह सड़कों पर आ गए। इस दौरान व्यापारियों और अधिकारियों की तीखी नोक-झोंक हुई। बाद में जब मामला बढ़ा तो अन्य व्यापारी नेता पहुंच गए। जहां व्यापारियों और अधिकारियों के बीच वार्ता हुई तो तय किया गया कि अतिक्रमण के नाम पर नालियों पर बने जाल को नहीं हटाया जाएगा लेकिन व्यापारी भी उन जालों पर सामान रखकर अतिक्रमण नहीं करेंगे। इस समझौते के बाद अभियान पुन: शुरू हुआ और फिर बाजार में निकले प्रशासन अधिकारियों ने अतिक्रमण हटवाए और व्यापारियों से स्वयं अतिक्रमण हटाने को कहा।

स्वयं नहीं हटाएं तो होगी कार्रवाई

व्यापारी स्वयं अतिक्रमण हटा लें और यदि अतिक्रमण नहीं हटाते है तो अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी। -- सुनील कुमार, एसडीएम सदर

Posted By: Jagran