संवाद सहयोगी, सिकंदरा : आयुष्मान भारत योजना के कार्ड बनाने के नाम पर ठगी करने पहुंचे एक युवक को ग्रामीणों ने दौड़ा लिया। इसकी सूचना एसडीएम व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दी।

पीएचसी राजपुर से जुड़े भाल गांव में शुक्रवार दोपहर अपने को स्वास्थ्य कर्मी बताते हुए एक युवक पहुंचा। रविशंकर नाम के युवक के साथ गांव का ही एक अन्य व्यक्ति भी था। गांव के किनारे दुर्गा मंदिर के पास उक्त युवक लैपटॉप व अन्य उपकरण लेकर बैठ गया। ग्रामीणों से सरकार की आयुष्मान भारत योजना के तहत स्मार्ट कार्ड देने के नाम पर पचास रूपये की वसूली करने लगा। कुछ लोगों को शंका हुआ तो पूछताछ करने लगे। इस पर वह गोलमोल जवाब देने लगा। इस पर गांव के विनोद प्रताप सिंह, बाली, कुलदीप मिश्रा, राजवीर, रामकेश, सरमन, सतनाम आदि ने उसे घेर लिया। सूचना एसडीएम रमेश चंद्र यादव व राजपुर पीएचसी प्रभारी डा. डीके सिंह को दी। ग्रामीणों के विरोध को देखते हुए युवक वहां से रफू चक्कर हो गया। ग्रामीणों ने उसे पकड़ने का प्रयास किया लेकिन वह भाग निकला। पीएचसी प्रभारी राजपुर के डा. डीके. सिंह ने बताया कि कोई व्यक्ति स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए गांव नहीं भेजा गया है। कार्ड बनाये जाने के नाम पर धन वसूली करने वाला व्यक्ति फर्जी है। एसडीएम ने बताया कि मामले की जानकारी मिली है। ग्रामीणों से स्मार्ट कार्ड बनाने के नाम पर उगाही करने वाले व्यक्ति की जानकारी कराई जा रही है।

Posted By: Jagran