संवाद सूत्र, रूरा : लगातार बारिश से जहां आम लोग परेशान हुए वहीं ईंट उद्योग को भी तगड़ी चोट पहुंची है। भट्ठों के ईंट पकाई चैंबर, प्लेट व मजदूरों के अस्थायी आवास गिरने के साथ ही ईंट बर्बाद हो गई है, जिससे लाखों का नुकसान हुआ है।

कस्बा क्षेत्र के बनीपारा, सिमरामऊ, तिगाई, मुक्तापुर, अडरेपुरवा, गहलो व किशुनपुर गांव के अलावा अकबरपुर व भोगनीपुर में ईंट भट्ठा संचालित होते हैं। भीषण बारिश के चलते ईंट पकाने के चैंबर, प्लेट टूट गए हैं। कच्ची ईंट के साथ ही अधपकी ईंट भी खराब हो गई है। ईंधन के अलावा मजदूरों के आवास ध्वस्त हो गए। वहीं तैयार लगी ईंट की निचली सतह पांच से छह फीट तक हुए जलभराव के चलते कीचड़, मिट्टी आदि से खराब हो गई है। बनीपारा के जसवीर सिंह दीपू, विनोद सिंह, अडरेपुरवा के पुतुआ तिवारी, सिमरामऊ के उदय सिंह गौर, तिगाई के पुष्पेंद्र शुक्ला सहित अन्य भट्ठा संचालकों ने बताया कि करीब एक लाख रुपयों से तैयार होने वाला चैंबर बारिश से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है। ईंट पथाई करने वाले मजदूरों के आवास भी गिर गए हैं। इसके अलावा कोयला लकड़ी पानी में डूबकर खराब हो गए हैं। भट्ठा संचालकों ने बताया कि दोबारा से निर्माण कराने में एक लाख रुपये से अधिक का खर्चा आता है। इसके अलावा लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। इस नुकसान भरपाई के लिए कर में छूट प्रदान किए जाने की मांग की है।

Edited By: Jagran