कानपुर देहात (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश में मासूमों पर स्कूल प्रबंधन की क्रूरता बढ़ती ही जा रही है। यहां के एक स्कूल में बच्चे के एक दिन स्कूल यूनीफार्म के स्थान पर जींस पैंट पहनने पर प्रबंधक ने आपा खो दिया। उसने जींस को आधा काटने के साथ ही बच्चे के पांव पर भी कैंची चला दी। जिसके कारण बच्चे के दोनों पैर जख्मी हो गए हैं। पीडि़त छात्र के पिता ने प्रबंधक के खिलाफ केस दर्ज करवाया है।

कानपुर देहात इलाके के सिकंदरा कस्बे में एक छात्र का जींस पहनना कॉलेज के प्रबंधक को इतना नागवार गुजरा कि उन्होने तुरंत कैंची मंगवाकर जींस पैंट को आधा काट डाला। वह इससे भी संतुष्ट नहीं हुए तो बच्चे के पैर पर भी कैंची चला दी। जिससे बच्चे का पैर जख्मी हो गया है।

प्रदेश से आई एक घटना स्कूल प्रशासनों के ऐसे दुखद सच को बयां करती है जो गाहे बगाहे सामने आते रहते हैं। छात्र स्कूल में यूनिफॉर्म पहनकर नहीं आया बल्कि जींस की पैंट पहन कर आया। इस बात से नाराज स्कूल के स्टाफ ने सजा के तौर पर उसकी पहनी हुई जींस उसके पहने-पहने ही काट दी। जींस कैंची से काटने की कोशिश में युवक के पैर भी बुरी तरह कट गए।

 

 

शास्त्रीनगर निवासी विनोद पाल ने बताया कि उनका पुत्र अनुज डॉ. अंबेडकर इंटर कॉलेज में कक्षा-11 का छात्र है। यूनिफार्म साफ न होने से वह परसों जींस पैंट पहनकर कॉलेज चला गया था। उसे देखकर प्रबंधक महेंद्र कटियार भड़क गए और उन्होंने कैंची से उसकी जींस के पैंट को काट दिया। जिससे अनुज का पैर जख्मी हो गया है। इसके बाद उसे इलाज के लिए सीएचसी में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें: फिल्म पद्मावती के विरोध में योगी आदित्यनाथ के मंत्री चेतन चौहान

पिता विनोद पाल का कहना है कि यदि स्कूल को बच्चे के स्कूल ड्रेस न पहनने पर आपत्ति थी ही तो वे उसे वापस भेज देते लेकिन इस तरह का व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। पिता का कहना है, स्कूल मैनेजर ने यूनिफॉर्म पहन कर न आने के युवक के कारण को अनसुना कर दिया और यह बेहद दर्दनाक सजा दे डाली। पिता का कहना है कि उन्होंने उनके बेटे की एक नहीं सुनी और पहले तो उसकी जींस काट दी और बाद में उसके पैरों पर 'कैंची चला दी'।

यह भी पढ़ें: फिल्म पद्मावती की नायिका दीपिका का सिर कलम करने पर पांच करोड़ इनाम

वहीं, प्रबंधक का कहना है कि वह जींस काट रहे थे, धोखे से छात्र के पैरों में कैंची लग गई। छात्र के पिता विनोद पाल ने कहा है कि स्कूल प्रबंधक ने मेरे बच्चे की बात नहीं सुनी। उसे एक बार मेरे बच्चे की परेशानी को समझना चाहिए था। उन्होंने आवेश में आकर मेरे बच्चे का यह हाल कर दिया। फिलहाल पुलिस ने कॉलेज के प्रबंधक के खिलाफ केस दर्ज करते हुए जांच के बाद कार्रवाई की बात कह रही हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप