जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : झमाझम बारिश के साथ शुक्रवार को प्री-मानसून ने दस्तक दी। तापमान में गिरावट होने के साथ ही बदली छाई रहने से मौसम खुशनुमा रहा। अधिकतम तापमान 34.0 व न्यूनतम तापमान 26.0 डिग्री सेल्सियस रहने से लोगों को गर्मी से राहत मिली। वहीं मानसून की पहली बारिश अच्छी होने पर किसानों के चेहरे भी खिल गए।

अब तक तेज धूप व गर्मी की मार झेल रहे लोगों को शुक्रवार रात व तड़के हुई बारिश ने राहत दिलाई। अकबरपुर, रूरा, डेरापुर, झींझक, रसूलाबाद, शिवली, पुखरायां सहित अन्य स्थानों पर तेज बारिश होने से अधिकतम तापमान में भी गिरावट हुई। हालांकि बारिश के बाद उमस जरूर बढ़ गई। चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि बंगाल की उत्तरी खाड़ी और ओडिशा तट पर निम्न दबाव का क्षेत्र बनने से मानसून को गति मिली है। उन्होंने बताया कि पूर्व में 25-27 जून के मध्य मानसून आने की संभावना थी, लेकिन यह परिवर्तन चक्रवात के कारण हुआ है। अभी 15 जून तक बारिश की संभावनाएं बनी हुई है, जिससे तापमान में गिरावट होगी। मानसून की पहली बारिश अच्छी होने पर किसानों ने भी खुशी जताई है क्योंकि अब उन्हें सब्जी फसल में सिचाई करने की आवश्कता नहीं पड़ेगी। इसके साथ ही धान की पौध लगाने वाले किसानों को पलेवा की आवश्कता नहीं पड़ेगी जबकि मक्का, पशुओं के लिए चारा, तिल्ली, अरहर सहित अन्य फसलों की बुवाई का कार्य भी शुरू हो जाएगा। कृषि विज्ञानी अशोक कुमार बताते हैं कि पहली बारिश से अच्छे संकेत मिले हैं। किसानों के लिए यह बहुत ही लाभकारी है। इससे अब उनके जोताई, बरसात की फसलों को बोवाई सहित अन्य कार्य चालू हो जाएंगे।

Edited By: Jagran