जागरण संवाददाता, कानपुर देहात: बीएसएनएल का स्लोगन कने¨क्टग इंडिया का दावा छलावा बना है। क्षतिग्रस्त ओएफसी का सिरा ¨रद नदी के पानी में डूबा होने से दिल्ली-हावड़ा रेल रूट पर बसे रोशनमऊ गांव व छोटे रेलवे स्टेशन डेढ़ माह से इंडिया डिस्कनेक्ट है। फोन व इंटरनेट सेवा पूरी तरह से धड़ाम है। विभागीय अफसर संचार सेवा किस तरह बहाल हो तय नहीं कर पा रहे हैं।

सरकारी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल बेहतर संचार सेवा मुहैया कराने का दावा करता है। हालांकि हालात इससे इतर हैं। संचार सेवाएं कई स्थानों पर बेपटरी रहती हैं और जिम्मेदार अफसर नजर अंदाज किए रहते हैं। संचार जैसी आपात सेवा के प्रति अफसरों की बेपरवाही दिल्ली-हावड़ा रेल रूट पर रोशनमऊ में देखने को मिल रही है। रोशनमऊ गांव के नजदीक ही छोटा रेलवे स्टेशन हैं। यहां लोकल ट्रेनें रुकती हैं। अलबत्ता इस रूट से प्रति दिन दो सौ से अधिक ट्रेनें निकलती हैं। ट्रेन यात्रियों की बिना किसी रुकावट फोन पर बात हो सके और वो इंटरनेट प्रयोग कर सके इसके लिए बीएसएनएल का बीटीएस (बेस ट्रांसीवर स्टेशन) लगा है।

ओएफसी से जुड़े इस बीटीएस से संचार सेवा डेढ़ माह से ठप है। ¨रद नदी के नजदीक से निकली ओएफसी (ऑप्टिकल फाइबर केबिल)का क्षतिग्रस्त सिरा नदी के बढ़े जलस्तर में डूबा है। टास्क फोर्स की टीम जल प्लावन में डूबी ओएफसी मरम्मत करने से किनारा कर चुकी है। किस तरह से संचार सेवा बहाल हो यह अफसर तय नहीं कर सके हैं। ऐसे में रोशनमऊ में मोबाइल की वॉइस व इंटरनेट सेवा बेपटरी हैं। यात्रियों के मोबाइल का नेटवर्क यहां से ट्रेन निकलने पर गुल हो जाता है। इसको लेकर सभी परेशान हैं।

इंसेट)

टास्क फोर्स की टीम पानी में जलमग्न ओएफसी दुरुस्त करने से हाथ खड़े कर चुकी है। मिनी ¨लक से बीटीएस जोड़े जाने को लेकर मोबाइल ¨वग के अफसरों को अवगत कराया गया है।

-डीपी साहू, मंडल अभियंता टास्क फोर्स

इंसेट)

टास्क फोर्स के मंडल अभियंता की ओर से मिले फीडबैक पर मिनी ¨लक से रोशनमऊ बीटीएस जोड़ने की प्रक्रिया की गई है। उम्मीद है इसी सप्ताह इस पर कोई निर्णय हो जाएगा।

-वीरेंद्र कुमार द्विवेदी, एसडी मोबाइल

इंसेट)

तीन किलोमीटर परिधि में मिलता है नेटवर्क

जानकारों के अनुसार बीटीएस तीन किलोमीटर परिधि में नेटवर्क उपलब्ध कराता है। जबकि एक समय में एक साथ ढ़ाई सौ उपभोक्ता बात कर सकते हैँ। रेलवे लाइन के क्षेत्र में होने से रोशनमऊ में बीटीएस अहम है।

Posted By: Jagran