जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : बुखार का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार को मौसम के कारण सरकारी अस्पतालों में बाकी दिनों के मुकाबले मरीजों की संख्या कम रही। जिला अस्पताल में पांच मरीज बुखार के भर्ती किए गए हैं। वहीं डेंगू मरीजों की संख्या जिले में अभी तक छह है।

जिला अस्पताल की ओपीडी में बुधवार को चार सौ से अधिक मरीज ओपीडी में पहुंचे। बच्चों की संख्या बड़ों के मुकाबले अधिक रही और ज्यादातर को बुखार व गले में दर्द की ही शिकायत थी। बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर के यहां अधिक लाइन लगी रही। इमरजेंसी में भी मरीज पहुंचे और डाक्टर को दिखाया। उधर झींझक सीएचसी में ओपीडी में 208 मरीज पहुंचे। इनमें 31 बुखार पीड़ित थे जिन्हें दवा दिया गया। कोई यहां पर भर्ती नहीं हुआ। रसूलाबाद, सिकंदरा, मैथा व हवासपुर सीएचसी में भी भीड़ जुटी और बुखार पीड़ितों को दवा देने के साथ ही जरूरत पर उनकी जांच की गई। अभी तक जिले में छह मरीज डेंगू के मिल चुके हैं। वहीं बुखार के मरीजों की संख्या 3,981 है। वहीं डेंगू लक्षणयुक्त मरीजों की संख्या 33 है, लेकिन रिपोर्ट आने पर सही स्थिति पता चल सकेगी। बुधवार को झींझक, भोगनीपुर, मंगलपुर व राजपुर क्षेत्र में डीडीटी, पैराथ्रम दवाओं का छिड़काव कराया गया। सीएमओ डाक्टर एके सिंह ने बताया कि लोग अपने घरों एवं आसपास पानी का ठहराव न होने दें। कूलर, फ्रिज की ट्रे, गमलों की प्लेट, टंकियों आदि की सफाई साप्ताहिक रूप से अवश्य करें। पानी के बर्तन, ड्रम आदि ढक कर रखें। पूरी बांह के कपडे़ पहनें व मच्छरदानी लगाकर सोए। टूटे-फूटे बर्तन, टायर, इस्तेमाल किये हुए बेकार प्लास्टिक के कप, कटोरी, गिलास, पत्तल आदि हटा दें। सबसे जरूरी घर व आसपास सफाई रखें।

Edited By: Jagran