संवाद सहयोगी, भोगनीपुर : अमरौधा कस्बा के मिश्राना मोहल्ले में गुरुवार को जलभराव की समस्या का निस्तारण कराने गए अधिशासी अधिकारी (ईओ) को नगर पंचायत अध्यक्ष के पति ने साथियों के साथ मिलकर गाली-गलौज करते हुए जान से मारने की धमकी दी। थाने में रिपोर्ट दर्ज की गई है। वहीं अध्यक्ष के पति ने आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए जलभराव की शिकायत करने पर झूठा मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है।

नगर पंचायत अमरौधा के अधिशासी अधिकारी पंकज सिंह ने बताया कि वह लोगों की शिकायतों के आधार पर कस्बा के मिश्राना मोहल्ला में जलभराव की समस्या का समाधान कराने के लिए कार्यालय के कर्मचारी वरिष्ठ लिपिक राजेश कुमार गुप्ता, वसूलीकर्ता मनीष कुमार, कंप्यूटर आपरेटर मो.फैजल व अन्य सफाई कर्मियों के साथ गए थे। मौके पर वह सफाई कर्मियों को समझा रहे थे, आरोप है कि तभी नगर पंचायत अध्यक्ष के पति महेश गौतम, अपने पुत्र करन व साथी अमरौधा के ही मनोज कुमार, रामू व 30 अन्य लोगों के साथ आ गए और मुझे व कर्मचारियों को गालियां देते हुए मारने पीटने की कोशिश की। उन्होंने कर्मचारियों के साथ भागते हुए मोहल्ले के ही यतीशचंद्र मिश्रा के घर में घुसकर जान बचाने का प्रयास किया, लेकिन अध्यक्ष पति साथियों के साथ वहां पर भी आ गए और हमले का प्रयास किया। वह किसी तरह भागकर अमरौधा चौकी में घुस गए और खुद को बचाया। कोतवाल बैजनाथ सिंह ने बताया कि अधिशासी अधिकारी पंकज सिंह की तहरीर पर आरोपितों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। अध्यक्ष पति महेश गौतम का कहना है कि उन्होंने मिश्राना मोहल्ले में जलभराव की समस्या का निदान कराने के लिए अधिशासी अधिकारी से अनुरोध किया था। अधिशासी अधिकारी पकंज सिंह समस्या का निदान न कराकर उन पर झूठा आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने ईओ के साथ मारपीट का कोई प्रयास नहीं किया है।

Edited By: Jagran