जागरण संवाददाता, कानपुर देहात: शासन के निर्देश पर मिलावटी खाद्य तेल तैयार करने व बिक्री करने वालों के खिलाफ अभियान के क्रम में गुरुवार को खाद्य सुरक्षा टीम ने शिवली स्थित तेल कारखाने में छापा मारकर पांच ड्रम राइसब्रान तेल सीज कर दिया। खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने बरामद राइस ब्रान तेल को सरसों के तेल में मिलावट के लिए रखे जाने की संभावना जता कार्रवाई की। साथ ही राइसब्रान तेल का नमूना संकलित करने के साथ कारखाना संचालक को नोटिस देकर तीन दिन में जवाब मांगा है।

मिलावटी खाद्य तेल से ड्राप्सी के खतरे की संभावना के चलते शासन ने तेल बनाने वाले प्रतिष्ठानों का निरीक्षण कर नमूने संकलित कर परीक्षण कराने का निर्देश दिया है। इसी क्रम में खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा स्पेलर कारखानों, परचून की दुकानों व खाद्य तेल प्रतिष्ठानों में छापा मार कार्रवाई की जा रही है। गुरुवार को अभिहित अधिकारी खाद्य एवं औषधि प्रशासन आरके गुप्ता की अगुवाई में खाद्य सुरक्षा अधिकारी एसएस निरंजन, रुचि बाजपेई व सुनील कुमार की टीम ने शिवली के तेल कारोबारी रामजी गुप्ता के स्पेलर कारखाने पर छापा मारा। यहां सरसों का तेल नहीं मिला लेकिन 5 ड्रम राइसब्रान तेल रखा मिला। इस तेल को कारखाने में रखने के बाबत संचालक कोई ठोस जवाब नहीं दे सके। सरसों के तेल में मिलावट की संभावना पर राइसब्रान तेल सीज कर दिया। खाद्य टीम ने राइसब्रान तेल का एक नमूना भी संकलित किया। अभिहित अधिकारी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने बताया कि सरसों के तेल में मिलावट के लिए पांच ड्रमों में राइसब्रान ऑयल सीज कर संचालक को नोटिस देकर तीन दिन में जवाब मांगा गया है। संकलित राइसब्रान तेल के नमूने को परीक्षण के लिए भेजा जा रहा हैं। परीक्षण रिपोर्ट मिलने व संचालक का जवाब आने के बाद कार्रवाई होगी।

Posted By: Jagran