संवाद सहयोगी, सिकंदरा : राजपुर ब्लॉक सभागार मे कृषि विभाग की ओर से एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। कृषि विज्ञानियों ने किसानों को खेत में पराली न जलाए जाने के साथ उन्नतशील बीजों का प्रयोग कर अपनी कृषि उपज को बढ़ाए जाने की जानकारी दी। चंद्रशेखर आजाद कृषि विधि विज्ञान केरल के रिटायर्ड प्रोफेसर कृषि विज्ञानी डॉक्टर उदय प्रताप पांडेय ने बताया कि खेतों में पराली जलाए जाने से मिट्टी की उत्पादन क्षमता कम होती है, इसलिए पराली न जलाये जाने की सलाह दी गई। कृषि विशेषज्ञ आर आर्य व एमएम अग्रवाल ने बताया कि किसान अपने खेतों की अच्छी उपज के लिए समय-समय पर मिट्टी का परीक्षण अवश्य कराएं व उन्नतशील बीजों का उपयोग कर फसल की अधिक पैदावार बढ़ाये। मिट्टी परीक्षण से आपको पता चल जाएगा कि हमारे खेत में कौन सी फसल उपयोगी होगी। कई बार न पता होने से फसल खराब होने का डर रहता है क्योंकि हमें पता नहीं होता कि मिट्टी किस प्रकार की है। कृषि विभाग से संपर्क कर किसान अपना मृदा परीक्षण कार्ड जरूर बनवा लें, यह बहुत ही फायदेमंद साबित होगा। इस मौके पर खंड विकास अधिकारी भगवान सिंह चौहान, एडीओ एजी विनय कुमार दोहरे व काफी संख्या में किसान मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021