जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : चक्रवाती तूफान के प्रभाव से मंगलवार को जिले में रुक-रुककर कई बार बारिश हुई। वहीं बदली छाई रहने के कारण पिछले 48 घंटों में तापमान में करीब 12 डिग्री सेल्सियस की गिरावट हो गई, जिससे लोगों को गर्मी व तपन से राहत मिली। बारिश के बाद हुए परिवर्तन से मौसम खुशगवार हो गया।

तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। मई माह में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया था। गर्मी व लू के कारण लोगों का जनजीवन प्रभावित था, लेकिन चक्रवाती तूफान के बाद मौसम में बदलाव हुआ है। सोमवार रात व मंगलवार को जिले के रूरा, रसूलाबाद, रनियां, अकबरपुर, झींझक, शिवली, पुखरायां ही नहीं बल्कि अन्य स्थानों पर भी रुक-रुककर कई बार बारिश हुई। इससे लोगों को आवागमन में असुविधा का सामना करना पड़ा। हालांकि बारिश के बाद तापमान में गिरावट होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है। रविवार को अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया था। वहीं बारिश के बाद अधिकतम तापमान में करीब 12 डिग्री सेल्सियस की गिरावट के साथ 28.4 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। वहीं न्यूनतम तापमान 24.4 डिग्री सेल्सियस रहा। तापमान में गिरावट होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली। चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि चक्रवाती तूफान के कारण मौसम में परिवर्तन हुआ है। उन्होंने बताया कि चक्रवात के प्रभाव से बुधवार को भी बारिश की संभावना बनी हैं।

बारिश के कारण मूंग व उड़द की फसल को लाभ हुआ है। कृषि विज्ञान केंद्र दलीप नगर के कृषि विज्ञानी डॉ. अशोक सिंह ने बताया कि बारिश से मूंग व उड़द की फसल में किसानों को एक सिचाई की बचत हुई है। अब तक सब्जी की फसलों को नुकसान नहीं है, लेकिन बारिश अधिक होने पर टमाटर, प्याज, लौकी, तरोई सहित अन्य सब्जी फसलों को नुकसान की संभावना बनी है।

Edited By: Jagran