जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में गुरुवार को प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में जिला योजना की बैठक में वर्ष 2018-19 के लिए तीन अरब 56 करोड़ 14 लाख रुपये की योजनाओं को मंजूरी दी गई। प्रभारी मंत्री ने सभी योजनाओं में पारदर्शी क्रियान्वयन कराने तथा सबका साथ सबका विकास के सिद्धांत पर काम कराने का निर्देश दिया।

नवीन कलेक्ट्रेट सभागार में गुरुवार को जिला योजना समिति की बैठक जिले के प्रभारी व प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा की अध्यक्षता में हुई। जनपद के सर्वांगीण विकास के लिए सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा, महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने, किसानों के उत्थान, ग्रामीण पेयजल, पशुपालन, दुग्ध विकास, अनुसूचित जाति, जन जाति उत्थान, लघु एवं सीमांत कृषकों, चिकित्सा, अल्पसंख्यक कल्याण, ग्रामीण स्वच्छता, आवास, चिकित्सा, ग्रामीण पेयजल आदि के लिए वर्ष 2018-19 में तीन अरब 56 करोड़ 14 लाख की योजनाओं के साथ 66 करोड़ 92 लाख 20 हजार का परिव्यय स्पेशल कंपोनेंट प्लान के लिए प्रस्तावित किया गया। इनका अनुमोदन सांसदों, विधायकों व अन्य जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों की मौजूदगी में किया गया। प्रभारी मंत्री ने अफसरों को सरकार की मंशा के अनुरूप योजनाओं का पारदर्शी क्रियान्वयन कराने, पर्यटन की संभावनाएं देखते हुए पर्यटन विभाग से चयनित स्थलों पर निर्माण व सौंदर्यीकरण कराकर पर्यटन को बढ़ावा देने और बिजली, पानी सड़क व स्वास्थ्य, शिक्षा की महत्वपूर्ण योजनाओं का बेहतर लाभ लोगों तक पहुंचाने का निर्देश दिया। बैठक में सांसद देवेंद्र ¨सह भोले, जालौन सांसद भानुप्रताप वर्मा, विधायक प्रतिभा शुक्ला, विनोद कटियार, निर्मला संखवार, एमएलसी अरुण पाठक, डीएम राकेश कुमार ¨सह, सीडीओ केदार नाथ ¨सह, एडीएम वित्त एवं राजस्व विद्याशंकर ¨सह, एडीएम प्रशासन शिव शंकर गुप्ता, सीएमओ डॉ. हीरा ¨सह, वनाधिकारी ललित मोहन, एसीएमओ डा. वीपी ¨सह, भाजपा जिलाध्यक्ष राहुल देव अग्निहोत्री, संयुक्त सचिव जिला योजना समिति रामलखन निषाद आदि मौजूद रहे।

--------------

प्रमुख विभागों का स्वीकृत परिव्यय

बैठक में लघु सीमांत कृषकों को सहायता के लिए 340 लाख, पशुपालन 300.21 लाख, वन 519.84 लाख, एकीकृत ग्राम्य विकास 347.96 लाख, रोजगार कार्यक्रम 4506.96 लाख, पंचायती राज 261.90 लाख, निजी लघु ¨सचाई 2682.85 लाख, सड़क एवं पुल 2581.12 लाख, प्राथमिक शिक्षा 1199 लाख, माध्यमिक शिक्षा 105 लाख, ऐलोपैथिक चिकित्सा 1110.50 लाख, उपकेन्द्र परिवार कल्याण 75 लाख, आयुर्वेदिक/यूनानी में 94.25, होम्योपैथिक में 284.50 लाख, नगरीय पेयजल 700 लाख, ग्रामीण पेयजल 2368.25 लाख, ग्रामीण स्वच्छता 2864.75 लाख, आवास 11982 लाख, समाज कल्याण पेंशन 802.13 लाख, दिव्यांगजन कल्याण 188.82 लाख, महिला एवं बाल विकास 300.46 लाख, सामुदायिक ग्राम्य विकास 69.41 लाख, निजी लघु सिचाई 2682.85 लाख, कृषि में 24.31 लाख सहित अन्य कई विभागों के परिव्यय के लिए अनुमोदन किया गया।

------------------

अफसरों की गलत बयानी पर जनप्रतिनिधियों ने जताई नाराजगी

जिला योजना की बैठक में सांसद देवेंद्र ¨सह भोले ने प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी की गलत बयानी पर कड़ी नाराजगी जताई। साथ ही बारा के पास सड़क निर्माण में विभागीय अभियंताओं पर लापरवाही करने की बात कही। नदी के पुल का निर्माण जल्द कराने की मांग प्रभारी मंत्री से की। भाजपा जिलाध्यक्ष ने अकबरपुर भुगनियांपुर मार्ग के निर्माण में हीला हवाली होने तथा विभागीय अभियंताओं द्वारा सही जवाब न देने का आरोप लगाया। विधायक विनोद कटियार ने नवीपुर गजनेर मार्ग के चौड़ीकरण का मामला रखा तो शिवली रूरा मार्ग को दुरुस्त कराने की मांग विधायक प्रतिभा शुक्ला ने उठाई। बाणेश्वर मंदिर बनीपारा, शुक्ल तालाब, बालाजी धाम आंट, दुर्वासा ऋषि आश्रम के विकास, ट्रामा सेंटर के संचालन, बस डिपो के जल्द संचालन व सिंचाई के संसाधनों आदि पर भी विस्तार से चर्चा हुई।

Posted By: Jagran