जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : बारिश से गेहूं क्रय केंद्र में रखा गेहूं भीग गया। सबसे बुरा हाल रसूलाबाद केंद्र का हुआ जहां जलभराव हो गया। इससे किसानों में परेशानी है। वहीं अकबरपुर केंद्र पर गेहूं ट्रैक्टर ट्राली पर डंप पड़ा है।

कई केंद्रों में खुले में गेहूं डंप हैं। इसके अलावा जो किसान अपना गेहूं लेकर पहुंचे वह भी ट्रैक्टर ट्राली लेकर खड़े हैं। शुक्रवार को किसान पालीथिन व तिरपाल डालकर गेहूं बचाने में जुटे रहे। शिवली व डेरापुर में खुले में रखा गेहूं भीग गया। वहीं रसूलाबाद केंद्र में तो हालात सबसे बुरे रहे। जगह जगह जलभराव हो गया और गेहूं की बोरियां काफी मात्रा में भीग गई। कुछ जगह तिरपाल सही ढंग से न ढके होने के कारण भी गेहूं भीग गया। रूरा मंडी समिति में भी कुछ गेहूं भीग गया। किसानों का कहना था कि गुरुवार को कुछ गेहूं भीगा था लेकिन शुक्रवार को तेज बारिश से ज्यादा भीग गया। अब धूप न निकली तो गेहूं खराब होकर सड़ जाएगा क्योंकि बहुत नमी पहुंच चुकी है। वहीं रसूलाबाद केंद्र प्रभारी ऊषा सिंह ने बताया कि ठेकेदार उठान नहीं कर रहा जिससे केंद्र पर यह डंप पड़ा है। उससे उठान को बोला गया है। बारिश से उड़द व मूंग को नुकसान संवाद सहयोगी, डेरापुर : दिन भर हुई तेज बारिश से किसानों की उड़द और मूंग की फसल को भारी नुकसान हुआ है। इसे लेकर किसान परेशान हैं।

शुक्रवार तड़के से हो रही बारिश व गुरुवार को भी हुई बारिश से खेतों में खड़ी फसल मूंग एवं उरद को काफी नुकसान हुआ है। जिन खेतों में फसलें काटकर एकत्रित की गई थी वह काफी नष्ट हो गई हैं और दाना झर कर वहीं गिर गया। गलुआपुर निवासी किसान रामबहादुर, जिगनिस के शिव सिंह, उमरी के सुधाकर तिवारी, दस्तमपुर के बाबूलाल आदि किसानों ने बताया कि दो-तीन दिनों से हो रही बारिश से खेतों में खड़ी फसल को नुकसान हो रहा। जिन खेतों में फसलें पक गई थी उन्हें काटकर मड़ाई के लिए रखा गया था वह बुरी तरह नष्ट हो गई हैं। दोनों फसलों की पैदावार सही थी लेकिन बेमौसम की बारिश से नुकसान हो गया।

Edited By: Jagran