जागरण संवाददाता, कानपुर देहात: जनपद में जलभराव व गंदगी से उल्टी दस्त, बुखार व मलेरिया का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। इतना ही नहीं बीमारी की चपेट में आकर मौतों का सिलसिला जारी है। रविवार को बुखार की चपेट में आकर अकबरपुर के एक युवक की मौत हो गई। इसके सहित जिले में ढाई माह में बीमारी की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या 17 हो गई है।

जिले में बारिश के बाद गंदगी व जलभराव से मलेरिया, वायरल बुखार व डायरिया का प्रकोप बढ़ रहा है। नए नए गांवों को बीमारी अपनी चपेट में ले रही है। सरकारी अस्पतालों में बुखार पीड़ितों के रक्त परीक्षण में जहां दो माह में 84 रोगी मलेरिया से पीड़ित पाए गए। वहीं जीएसवीएम मेडिकल कालेज में हुए परीक्षण में (शिव पुरम पुरवा)सेहू रामपुर के एक किशोर व मलासा ब्लाक के अकबरपुर नगर के एक युवक को डेंगू की पुष्टि हुई। इतना ही नहीं वहीं लगातार हो रही मौतों के बावजूद जिम्मेदारों के गंभीर न होने से बीमारी उग्र रूप ले रही है। रविवार को अकबरपुर के नयागंज मोहल्ले के रहने वाले चोखे लाल (45) की बुखार की चपेट में आने से मौत हो गई। उसके पुत्र रंजीत, जयवीर, रघुवीर आदि ने बताया कि वह 3-4 दिन से बुखार से पीड़ित थे। रोने बिलखने के बाद परिजनों ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

------------------------

इंसेट) बीमारी नियंत्रण के लिए जिला स्तर पर एक व ब्लाक स्तर पर दस रैपिड रिस्पांस टीमें गठित हैं। गांवों में टीमें भेजकर मरीजों का इलाज कराया जा रहा है। 93 गांवों व मलेरिया विभाग द्वारा चिन्हित 150 संवेदनशील गांवों में पैनी नजर रखी जा रही है। बीमारी से मरने वालों की रिपोर्ट जिले को उपलब्ध नहीं है। इन मौतों का सत्यापन कराने के बाद अग्रिम कार्रवाई होगी।- डा.एपी वर्मा, डिप्टी सीएमओ व संक्रामक रोग प्रभारी।

Edited By: Jagran