संवाद सहयोगी, झींझक : मंगलपुर थाना के लक्ष्मणपुर पिलख निवासी तीन वर्षीय मासूम अर्नव की मौत के बाद घर के साथ ही गांव में मातम छाया हुआ है। किसी को विश्वास नहीं हो रहा है कि अब वह दुनिया में नहीं है।

मंगलपुर थाना के लक्ष्मणपुर पिलख गांव निवासी भूपेंद्र सिंह अपनी पत्नी बबिता व तीन वर्षीय पुत्र अर्नव के साथ बाराबंकी लोधेश्वर जा रहे थे। लखनऊ इटौंजा थाना क्षेत्र के सीतापुर रोड पर हुई मार्ग दुर्घटना में चार अन्य लोगों के अलावा अर्नव की मौत हो गई थी। उसकी मां बबिता अभी भी अस्पताल में हैं। मौत की सूचना गांव में मिली तो मातम पसर गया। आस पड़ोस के लोगों का तो अर्नव बहुत दुलारा था और उसे यादकर लोगों की आंख नम हो गईं। शुक्रवार देररात बच्चे का शव लेकर स्वजन आए थे और शनिवार तड़के कानपुर गंगा नदी में शव को प्रवाहित कर दिया। अर्नव की दादी रामकली का सबसे बुरा हाल है। मृतक के चाचा जितेंद्र सिंह ने बताया कि अर्नव के जन्म के समय मन्नत मानी थी, लेकिन ऐसा होगा पता नहीं था। यहां के लोग घर से वापस लखनऊ चले गए।

Edited By: Jagran