जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : बेसहारा मवेशी जिले के लिए बड़ी समस्या हैं। फसलों को नुकसान पहुंचाने के साथ ही कस्बा क्षेत्रों में यह दुर्घटना का कारण भी बन रहे हैं। गोवंश आश्रय स्थल होने के बाद भी मवेशियों को सुरक्षित ठौर न मिलने पर डीएम जेपी सिंह ने नाराजगी जताई। इसके साथ ही बेसहारा मवेशी सड़कों पर मिलने को लेकर अधिशाषी अधिकारी व बीडीओ के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी के निर्देश दिए।

कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को आयोजित बैठक में डीएम ने कहा कि सड़कों पर घूमते बेसहारा मवेशी लोगों के लिए परेशानी का सबब बन रहे हैं। वहीं हादसों का कारण भी बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्र में सड़कों पर बेसहारा मवेशी मिलने पर अधिशासी अधिकारी व ग्रामीण क्षेत्र में बीडीओ जिम्मेदार होंगे। इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा में डा. सुखलाल वर्मा ने बताया कि मंगलवार को 1251 गोल्डन कार्ड बने हैं। इस पर डीएम ने दो हजार गोल्डन कार्ड बनाने के निर्देश दिए। डीपीआरओ ने बताया कि 610 पंचायत सहायकों का चयन हो चुका है, केवल आठ पंचायत सहायक का चयन होना बाकी है। बैठक में सीडीओ सौम्या पांडेय, एडीएम प्रशासन पंकज वर्मा, एडीएम वित्त एवं राजस्व साहब लाल, डीडीओ गोरखनाथ भट्ट, डीपीआरओ अनिल कुमार सिंह मौजूद रहे।

Edited By: Jagran