जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : लगातार हुई बारिश से गांवों में हुआ जल प्लावन अब बीमारी की वजह बन गया है। जगह जगह रुके बरसाती पानी में मच्छर पनप रहे हैं तो गंदगी से संक्रामक बीमारी की चपेट में लोग आ रहे हैं। बुधवार को रसूलाबाद के मक्का निवादा, ओरिया व भीतर गांव में स्वास्थ्य टीम को 110 नये रोगी मिले। वहीं मैथा ब्लाक के प्रतापपुर खास गांव में 43 नये रोगियों का परीक्षण कर दवाएं वितरित की गई।

रसूलाबाद सीएचसी से डॉ. ओपी भदौरिया, महेश प्रताप, उपेंद्र व मनोज की टीम ने मक्का निवादा, ओरिया गांव में पहुंचे। टीम को मक्का निवादा में बुखार और उल्टी दस्त के 29 रोगी मिले। रूबी, छोटे, मनु, दिलीप, सत्यम आदि को दवाएं दी गई। बता दें कि मक्का निवादा में बुखार से एक महिला की मौत हो चुकी है।

ओरिया गांव में 19 नये रोगी मिले। राम किशन, कांति, बबलू, शिवनाथ, रामश्री, लाल ¨सह आदि को टीम ने दवा दी। इसी प्रकार भीतर गांव में डॉक्टर प्रदीप की अगुवाई में शिवमोहन, आरएल चौधरी, अतुल अवस्थी व गौरव की

टीम पहुंची। परीक्षण में यहां लगभग 60 मरीज मिले। टीम ने राजू बाजपेई, यशोदा, मुस्ताक अली, लक्ष्मी, शहनूर, शिवम आदि को दवाएं दी। यहां पर बुखार पीड़ित 30 लोगों की रक्त पट्टिकाएं बनाई गई हैं। इसी प्रकार मैथा

ब्लाक के प्रतापपुर खास गांव में डा. प्रशांत पांडेय की अगुवाई में स्वास्थ्य टीम पहुंची। टीम ने यहां शिवम, अजय, रानू, अंजली, अनिल, शिवपूजन, गुंजन, बिटान, अलका, अशोक, रानी, मन्नो, ज्वाला प्रसाद, राम शंकर, राजेश्वरी, शिवराज, गोलू, लकी, राजन, सूरज, गुड्डन, मुन्नी व सरोजनी सहित 43 मरीजों का परीक्षण कर दवाएं दीं।

----------

हंसपुर में नहीं पहुंची स्वास्थ्य टीम

संवाद सहयोगी, रसूलाबाद : हंसपुर गांव में बुखार से एक छात्रा की मौत के बाद भी बुधवार को स्वास्थ्य टीम नहीं पहुंची। हंसपुर के कैलाश पाल आदि ने बताया कि प्रियंका, श्रद्धा, ऋषि पाल, शिवानी, सत्यम, शिवम, रूचि, सुशीला, दयावती, कृपाल चंद्र, महावीर व सुरेंद्र कुमार आदि बुखार व उल्टी दस्त से पीड़ित हैं। उसने बताया कि एक छात्रा की मौत के बाद भी यहां टीम नहीं पहुंची है। बीमारी की सूचना चिकित्साधीक्षक एके बाजपेई को दी है। स्वास्थ्य टीम के गांव न आने से बीमारों का इलाज नहीं हो पा रहा है वहीं लोगों में खासी नाराजगी है।

Posted By: Jagran