कानपुर, जागरण संवाददाता। Facts about Zika Virus जीका वायरस का संक्रमण सबसे पहले अफ्रीका के पूर्वी-मध्य क्षेत्र के युगांडा के जंगल में अप्रैल 1947 में बंदरों की प्रजाति रीसस मकाक में पाया गया था। अध्ययन के बाद वर्ष 1952 में इसका नाम जीका रखा, क्योंकि युगांडा के जीका फारेस्ट (जंगल) में वायरस पाया गया था।  

पहली बार मनुष्य में संक्रमण का केस नाइजीरिया में: मनुष्य में जीका वायरस पहली बार मनुष्य में वर्ष 1954 में दक्षिण अफ्रीका के नाइजीरिया में मिला। उसके बाद वर्ष 1981 में कई अफ्रीकी देशों सेंट्रल अफ्रीका, रिपब्लिक इजिप्ट, गैबन, सिएरा, लियोन, तंजानिया और युगांडा में जीका के बड़ी संख्या में केस मिले। एशिया के भारत, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, थाईलैंड और वियतनाम में जीका के बहुत कम केस मिले हैं। 

देश में पहली बार जयपुर में, 22 संक्रमित मिले थे: स्वास्थ्य विभाग के पूर्व महामारी वैज्ञानिक एवं पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट डा. देव ङ्क्षसह ने बताया कि देश में पहली बार जीका वायरस के मामले सितंबर 2018 को राजस्थान के जयपुर में मिले थे। 22 बुखार पीडि़तों में जीका की पुष्टि हुई थी। उसके बाद से केरल, तामिलनाडु, कर्नाटक और पूर्वोत्तर राज्यों में भी जीका के केस पाए गए हैं। 

जीका का महामारी विज्ञान: जीका मच्छर जनित रोग है। यह वायरस जीनस फ्लेवी वायरस तथा फैमिली फ्लेविविरिडी के अंतर्गत आता है। इसका फ्लेवी वायरस से नजदीकी संबंध है, जो डेंगू, चिकनगुनिया, येलो फीवर और वेस्ट नाइल वायरस समूह का ङ्क्षसगल स्टेंन आरएनए वायरस है। इसकी जिनोमिक लंबाई 10794 केवी है। 

इन्हें हो सकता है संक्रमण : कोई व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका के जीका प्रभावित देश की यात्रा से आया है और आने के 7-14 दिनों के बीच बुखार, शरीर में लाल दाने आ जाएं, बुखार बना रहे। मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द, आंखों में लाली व कीचड़ आए और सिरदर्द होने पर जीका वायरस की जांच करानी चाहिए।

संक्रमण होने पर ऐसा करने से बचें: 

  • जीका संक्रमित महिला गर्भावस्था में संबंध न बनाएं। 
  • जीका संक्रमित पुरुष छह माह तक संबंध न बनाएं। 
  • प्रभावित क्षेत्र से लौटने पर आठ सप्ताह तक संयम बरतें।

Edited By: Shaswat Gupta