कानपुर, जेएनएन। पनकी थाना क्षेत्र के रतनपुर चौकी के पास मेला देखकर घर लौट रहे युवक की कुछ लोगों ने बेरहमी से पीटकर हत्या कर दी। पुलिस ने तीन नामजद व चार अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। प्राथमिक छानबीन में समाने आया है कि दहशरा मेला से लौटते समय विवाद के बाद हत्या की गई है। पुलिस सीसीटवी फुटेज देखकर हमलावरों की पहचान करने और कारणों का पता लगाने का प्रयास कर रही है।

रतनपुर कॉलोनी में रहने वाले शिवानंद तिवारी के मुताबिक 25 वर्षीय छोटा बेटा अजय तिवारी उर्फ दीपू का पिछले वर्ष से इलाके के धर्मेंद्र सिंह से किसी बात को लेकर विवाद चल रहा था। शुक्रवार रात अजय दशहरा मेला देखकर घर लौट रहा था। आरोप है कि केसा चौराहा के पास पुरानी रंजिश के चलते धर्मेंद्र सिंह ने साथी सुनील चतुर्वेदी व दीपू भदौरिया समेत चार अज्ञात लोगों के साथ मिलकर बेटे अजय को घेर लिया और विवाद करने लगे। इसके बाद बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया और बीच-बचाव करने पहुंचे मुहल्ले के साथी सुनील कुमार को पीट दिया।

किसी तरीके जान बचाकर भागे सुनील ने घर आकर घटना की जानकारी दी। वह बेटे को ढूंढते हुए घटनास्थल पर पहुंचे, जहां अजय खून से लथपथ पड़ा था।स्वजन उसे एलएलआर हॉस्पिटल (हैलट) लेकर गए, जहां उपचार के दौरान अजय ने दम तोड़ दिया। पनकी थाना इंस्पेक्टर दधिबल तिवारी ने बताया कि तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। घटना के संबंध में अभी कुछ कहना उचित नहीं है, मामले की जांच की जा रही है। फिलहाल पुलिस घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है।

चाैकी पुलिस रही अनजान

रतनपुर चौकी के पास हमलावर वारदात को अंजाम देकर भाग निकले लेकिन चौकी पुलिस अनजान बनी रही। स्वजन मौके पर पहुंचे और मरणासन्न हालत में अजय को एलएलआर अस्पताल ले गए लेकिन चौकी पुलिस नहीं पहुंच सकी। वहीं इंस्पेक्टर ने भी स्वरूप नगर पुलिस से घटना की जानकारी मिलने के बाद कार्रवाई करने की बात कही है। इससे साफ है कि सचेंडी थाना पुलिस क्षेत्र में घटनाओं को लेकर कितनी सजगता बरत रही है।

Edited By: Abhishek Agnihotri