बांदा, जेएनएन। बदौसा थाना क्षेत्र के उतरवां गांव में मंगलवार की सुबह लोगों में सनसनी फैल गई। घर के अंदर चारपाई के नीचे खून से लथपथ बेटे को पड़ा देखकर मां तेजी से चीखी और बेसुध होकर गिर पड़ी। चीख सुनकर पहुंचे परिवार वाले और ग्रामीण नजारा देखकर सन्न रह गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेने के साथ चारपाई के पास से एक तमंचा भी बरामद किया। फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड ने भी घटना के सुराग तलाश। फिलहाल परिवार वाले किसी रंजिश से इंकार कर रहे हैं, वहीं पुलिस घटना को आत्महत्या मान रही है।

गुजरात के सूरत में रहकर करता था नौकरी

बदौसा थाना क्षेत्र के उतरवां गांव निवासी 23 वर्षीय नीरज तिवारी गुजरात प्रांत के सूरत शहर में रहकर प्राइवेट नौकरी करता था। करीब सात माह पहले वह सूरत से घर लौट आया था और घर पर रह रहा था। मंगलवार की सुबह मां मालती बरामदे में गई तो चारपाई के नीचे नीरज को खून से लथपथ पड़ा देखकर चीख पड़ी। मौके पर घर वाले और ग्रामीण भी पहुंच गए। चारपाई में बिछा गद्दा खून से सना था और जमीन पर भी काफी खून पड़ा मिला। चारपाई के पास 315 बोर देशी तमंचा भी पड़ा था।

पुलिस मान रही आत्महत्या

परिजनों की सूचना पर बदौसा थानाध्यक्ष नरेश प्रजापति मौके पर पहुंचे और तफ्तीश की। फोरेंसिक टीम व डॉग स्क्वायड भी घटना स्थल पर पहुंची। पिता मूलचंद ने किसी से कोई दुश्मनी नहीं होने की बात कही। थानाध्यक्ष का कहना है कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत हो रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

क्यों तनाव में था युवक

मूलचंद्र ने पुलिस को बताया कि नीरज दो भाइयों में बड़ा था। छोटा भाई धीरज यहीं पढ़ाई करता है। नीरज पढ़ाई छोड़कर बाहर नौकरी करने चला गया था और सात आठ माह से घर पर ही रह रहा था। छह माह पहले ससुराल में नीरज की बहन ने आत्महत्या कर ली थी। तब से नीरज और उसकी मां मालती मानसिक रूप से परेशान रहते थे। सोमवार को भी नीरज बेहद तनाव में लग रहा था और खाना भी नहीं खाया था।

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस