कन्नौज, जेएनएन। ऑनर किलिंग के एक मामले ने शहर में सनसनी मचा दी है। प्रेम विवाह करने से नाराज घरवालों ने युवती का जबरन दूसरा विवाह कराना चाहा लेकिन युवती नहीं मानी तो उसकी हत्या कर दी गई। इतना नहीं नहीं उसका शव रजबहे में दफना दिया। प्रेमी ने हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण की याचिका लगाई तब मामला खुला और पुलिस ने चाचा और रिश्तेदार को गिरफ्तार कर शव बरामद कर लिया है।

चार माह पहले एटा में की थी शादी

ठठिया क्षेत्र के गांव गौरनपुरवा निवासी अखिलेश यादव की 24 वर्षीय बेटी रेखा का क्षेत्र के ही धौरारा गांव निवासी अमित के साथ प्रेम था। अमित का दावा है कि दोनों ने छह अप्रैल को आर्य समाज मंदिर एटा में शादी की थी। कुछ दिन बाद युवती अपने घर आने के बाद गायब हो गई। अमित कई दिनों तक पुलिस के चक्कर काटता रहा लेकिन सुनवाई नहीं हुई।

उसने हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की तो कोर्ट ने 11 सितंबर को पुलिस को तलब किया था। पुलिस आरोपित चाचा अवधेश को लेकर कोर्ट पहुंची। कोर्ट ने युवती को पेश करने का आदेश दिया। पुलिस ने बुधवार को आरोपित चाचा और उसके बहनोई गिरीश यादव निवासी नया नगला, मोहम्मदाबाद फर्रुखाबाद की निशानदेही पर रेखा के शव को रजबाह के किनारे से बरामद किया।

खून के धब्बे खाकी पर भी

ऑनर किलिंग के मामले में खून के छींटे खाकी पर भी पड़े हैं। हत्यारोपित चाचा भले गिरफ्त में आ गया, लेकिन पुलिस की कार्यशैली पर सवाल भी लगे। प्रेम विवाह के बावजूद जबरन दूसरी जगह शादी कराए जाने की शिकायत लेकर थाने पहुंची युवती को बिना लिखा पढ़ी के पुलिस ने चाचा को सौंप दिया था। प्रेमी अमित का कहना हे कि शादी से युवती के घर वाले खुश नहीं थे। रेखा के गायब होने पर वह पुलिस के चक्कर काटता रहा लेकिन वह नहीं मिली तो उसने कोर्ट की शरण ली। यदि पुलिस समय रहते चेत जाती और युवती के आरोपों को संजीदगी से लेती तो उसकी जान बच सकती थी।

पिता ने कराई थी सगाई

घरवालों ने सात अप्रैल को रेखा की सगाई तालग्राम के नरुईया निवासी सुरजीत के साथ करा दी। रेखा ने दूसरे विवाह से मना कर दिया। मई में वह घर से निकल थाने पहुंची तो भखरौली निवासी चाचा भी पहुंच गया। शिकायत पर ध्यान न देकर पुलिस ने युवती को चाचा के हवाले कर दिया। चार मई को गला दबाकर उसकी हत्या कर दी गई। अब पुलिस का दावा है कि अमित के साथ शादी का प्रमाणपत्र फर्जी है।

चाचा और फूफा ने खूब छकाया

पुलिस को आरोपित चाचा और तालग्राम के बिचपुरवा निवासी फूफा सुघर ङ्क्षसह ने खूब छकाया। कभी चाचा हत्या की बात करता तो कभी फूफा स्वीकार करता। दावा किया, शव निचली गंग नहर में बहा दिया। कड़ाई से पूछताछ में आरोपित चाचा टूट गया और सच उगल दिया। थाना प्रभारी निरीक्षक विजय बहादुर वर्मा का कहना है कि हत्याकांड में और लोगों के नाम प्रकाश में आने की आशंका है। जल्द ही पूरे मामले का पटाक्षेप कर दिया जाएगा।

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस