जागरण संवाददाता, कानपुर: प्रदेश सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने का दावा किया है। इसके लिए ऐसे प्रोजेक्ट व फॉर्मूले तलाशे जा रहे है, जिनका प्रयोग कर किसान या संस्था ने अपना व अपने क्षेत्र में विकास का पैमाना गढ़ा हो। ऐसे ही एक प्रयास को देखने के लिए मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार केवी राजू शुक्रवार को सरसौल पहुंचे। उन्होंने यहां स्थापित प्रदेश के पहले व्यावसायिक बायो गैस प्लांट का निरीक्षण किया और खेती से जुड़ी अन्य तकनीकों के बारे में जानकारी हासिल की।

किसान और किसानों की समस्याएं इस समय सर्वाधिक प्राथमिकता वाले विषय हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वादा कर चुके हैं कि उनकी सरकार में किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी। इसके लिए सरकार नई कृषि नीति बनाने पर काम कर रही है, जिसमें उन्नत खेती के साथ ही रोजगार, प्रदूषण, जैव अपशिष्ट और गंदगी से एक साथ लड़ाई की जा सके। मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार केवी राजू, उप्र जैव ऊर्जा विकास बोर्ड के स्टेट कोआर्डिनेटर पीएस ओझा, उन्नत भारत अभियान कानपुर चैप्टर की प्रमुख और आइआइटी कानपुर की प्रोफेसर रीता सिंह, नाबार्ड की डीडीएम सुमन की टीम शुक्रवार को सरसौल पहुंची। यहां पर समग्र एग्रो द्वारा प्रदेश का पहला व्यावसायिक बॉयो गैस प्लांट लगाया गया है। टीम ने गोबर, जैविक अपशिष्ट के प्रयोग से व्यावसायिक स्तर पर सीएनजी व खाद के उत्पादन को देखा। समग्र एग्रो के विशाल अग्रवाल ने टीम को इस प्लांट की खासियत के बारे में जानकारी दी। प्लांट में इस समय रोजाना सौ से 120 टन जैव अपशिष्ट का प्रयोग करके दो हजार से ढाई हजार किग्रा सीएनजी गैस का उत्पादन हो रहा है। इस प्लांट के सहयोग से पराली जैसी प्रदूषण से जुड़ी समस्याओं से भी लड़ा सकता है। इसके अलावा जैव अपशिष्ट की गंदगी से भी निजात मिल सकती है। विकल्प संस्था के अनंत चतुर्वेदी व उनकी टीम ने मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार के सामने अपने उन्नत कृषि यंत्रों का प्रदर्शन किया, जिससे कम लागत में अधिक उत्पादन व दोगुनी कमाई की जा सकती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस