हमीरपुर, जागरण संवाददाता। न्यायालय में गलत साक्ष्य प्रस्तुत कर भाई की पत्नी के अपहरण कर हत्या करने में उसी के पति व बेटों पर मुकदमा दर्ज कराने वाले भाजपा नेता समेत तीन लोगों के खिलाफ न्यायालय के आदेश पर मुकदमा दर्ज हुआ है। मामले में विवेचना की कार्रवाई चल रही है। बताया कि इंद्रजीत जो पूर्व में कांग्रेस जिलाध्यक्ष व मौजूदा में भाजपा नेता है। भाजपा के जिलाध्यक्ष बृजकिशोर गुप्ता ने बताया कि इंद्रजीत सिंह पार्टी में स्थानीय निकाय प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय सहसंयोजक पद पर है।

अधिवक्ता प्रशांत किशोर सिंह ने बताया कि जलालपुर थानाक्षेत्र के भेड़ी गांव निवासी इंद्रजीत सिंह द्वारा मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष कथन किया कि 25 अक्टूबर 2020 को एक विधवा महिला ज्ञानकुंवर पत्नी सरवर ङ्क्षसह उसे बदहवासी हालत में मिलीं। जिसने बताया कि गांव निवासी शिवशंकर ङ्क्षसह व उसके बेटों रविंद्र सिंह व राजकुमार उसे कई वर्षों से कैद किए हैं। साथ ही उसकी आठ-दस बीघा जमीन अपने नाम करा ली। इंद्रजीत सिंह ने बताया कि इसी दौरान उक्त लोग आए और लोग आए और उसे जबरन जीप में बैठाकर ले गए। जिसके बाद काफी खोजबीन की लेकिन वह नहीं मिली। उक्त लोगों द्वारा जमीन के लालच में उसे मारकर फेंक दिया गया। जिस पर न्यायालय ने शिवशंकर, रविंद्र व राजकुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। जिसके बाद शिवशंकर सिंह ने न्यायालय में पेश होकर बताया कि जिस ज्ञानकुंवर पत्नी सरवन नामक महिला के नाम पर उन्हें आरोपित बनाया गया।

वह उनकी पत्नी है और जिसकी मृत्यु तीस सितंबर 2019 को हो चुकी। जिसका मृत्यु प्रमाण पत्र साक्ष्य में प्रस्तुत किया। साथ ही बताया कि इंद्रजीत उनका भाई है। जो कृषि भूमि में सहखातेदार है। जिसने न्यायालय में झूठा शपथ पत्र दे गुमराह करते हुए उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया। मामले में गंभीरता दिखाते हुए अदालत ने जलालपुर पुलिस को इंद्रजीत सिंह व मामले में गवाह रहे शिवरतन व छोटेलाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। जिस पर जलालपुर थाना पुलिस ने उक्त तीनों के खिलाफ फर्जी व कूटरचित दस्तावेज तैयार कर पड्यंत्र के तहत छल करने के मामले में मुकदमा दर्ज किया है। 

Edited By: Abhishek Agnihotri